Friday, December 9
Shadow

सूर्य और हमारा स्वास्थ्य 9 facts of Sun for good healthy life

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

सूर्य और हमारा स्वास्थ्य 9 facts of Sun for good healthy life

मित्रों सूर्य और हमारा स्वास्थ्य एक दूसरे से लौकिक और परालौकिक दोनों रूप से जुड़े हैं इसीलिए आज हम समझेंगे 9 facts of Sun for good healthy life, स्वास्थ्य को सबसे बड़ा धन माना गया है तो एक प्रकार से हम कह सकते हैं कि आज के समय बहुत कम धनवान हैं क्योंकि आज बहुत ही कम लोग पूर्णत स्वस्थ हैं

हर व्यक्ति के शरीर मे कोई न कोई निर्बलता होती है और उस निर्बलता से व्यक्ति रोगी हो जाता है क्योंकि सभी के शरीर की संरचना अलग होती है | एक स्वस्थ व्यक्ति को देखकर ये नही बताया जा सकता है कि उसे आगे भविष्य मे क्या रोग हो सकता है किन्तु ज्योतिष मे कुंडली देख ये बताया जा सकता है कि व्यक्ति को भविष्य मे क्या रोग होगा

आज हम बात करेंगे सूर्य और हमारा स्वास्थ्य विषय पर जिसमे हम सूर्य की निर्बलता से होने वाले रोगो को समझेंगे

सूर्य और हमारा स्वास्थ्य

सूर्य ग्रहों का राजा है और साथ ही ये आपकी कुंडली के प्रथम भाव अर्थात हमारे शरीर ( तनु) और हमारी आत्मा से जुड़ा ग्रह है यदि सूर्य आपका बलवान है तो रोगों की चिंता आप कभी नहीं करेंगे क्योंकि आपका शरीर और मस्तिष्क स्वस्थ होगा और आपकी आत्मा बलवान होगी |

आप शरीर की छोटी मोटी व्याधियों की चिंता नहीं करेंगे और वो व्याधियाँ कुछ ही समय मे स्वतः समाप्त हो जाएंगी किंतु सूर्य अच्छा नहीं है तो सबसे पहले आपके बाल झड़ेंगे | सिर में दर्द रहने लगेगा और यदि लग्न मे राहु बैठे हों तो माईग्रैन होने की भी संभावना रहेगी , ऐसे मे नेत्रों मे निर्बलता भी देखि गयी है

पितृ दोष (pitra dosh)Solar Eclipse सूर्य ग्रहण 2022

1. सूर्य के उपाय (सूर्य और हमारा स्वास्थ्य)

सूर्यग्रह की अनुकूलता हेतु भगवान विष्णु का पूजन करें और सूर्य के वैदिक मंत्रों का 7 हज़ार जाप करना चाहिए।

प्रातः काल वैदिक मंत्र का जाप करते हुए सूर्य भगवान को जल का अर्घ्य सिंदूर या लाल फूल डालकर देना चाहिए।

ये भी पढे : पितृ दोष (pitra dosha)- Solution of A 2 Z Problems of life

2. सूर्य देव के सरल मंत्र

1. ऊँ ह्रां हृीं हृौं सः सूर्याय नमः  या 2. ऊँ घृणि सूर्याय नमः का जाप भी कर सकते हैं

सूर्य के इन मंत्रों का जाप यदि अठ्ठाईस हज़ार बार किया जाये तो शीघ्र फल मिलता है ।

प्रतिदिन निरंतर चालीस दिन आदित्य हृदय स्तोत्रम् का पाठ करना चाहिए।

यदि संभव हो तो सूर्य गायत्री मंत्र “आदित्याय विद्महे प्रभाकराय धीमहि तन्नोः सूर्य प्रचोद्यात्॥  “ का भी न्यूनतम 5 या 11 बार जाप करें

3. सूर्य यंत्र निर्माण (सूर्य और हमारा स्वास्थ्य)

रविवार को प्रातः काल सूर्य के यंत्र को भोजपत्र पर अष्टगंध से अनार की कलम से लिख कर पंचोपचार पूजन कर अथवा ताम्र पत्र पर गुरु पुष्य या रवि पुष्य या अमृत योग काल मे निर्मित (उत्कीर्ण)  करा कर लाल धागे में गूंथ कर गले या बांह में रविवार को प्रातः काल धारण करें ।

4. सूर्य व्रत का नियम 

ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष के प्रथम रविवार से प्रारंभ कर न्यूनतम 12 या संभव हो तो 30 व्रत रखें। दिन में लाल वस्त्र धारण करें तथा माथे पर लाल चन्दन का टीका (तिलक) लगाएँ ।

सूर्यास्त से पहले गेहूं की रोटी अथवा गुड़ या गुड़ गेहूं और घी से बना हलुआ बना कर खाएं। नमक बिल्कुल नहीं खाना चाहिए।

ये भी पढे : 9 planets & their astrological remedies ग्रहों का प्रभाव

5. सूर्य का दान

सोना, तांबा, गेहूं, गुड़, घी, लाल पुष्प, केसर, मूंगा, माणिक्य, लाल गाय, रक्त वस्त्र, रक्त, रक्त चंदन रविवार को दान करें ।

6.सूर्य का हवन

पूर्व की ओर मुख करके मिट्टी या तांबे के हवन कुंड मे समिधा, आक की लकड़ी से किसी भी मंत्र को जापते हुए हवन करें

सूर्य और हमारा स्वास्थ्य - 9 facts of Sun for good health

image credit : pexels

7. सूर्य का औषधि स्नान 

रक्त पुष्प, मैनसिल, देवदारू, केसर, खस, मूलहट्टी, इलायची को जल में डाल कर स्नान करना चाहिए।

ये भी पढे : रोगों से मुक्ति के ज्योतिषीय उपाय-16 supernatural healthy tips

8. सूर्य का रत्न धारण (सूर्य और हमारा स्वास्थ्य)

अपने शरीर के भार के अनुसार जैसे लगभग 10 kg भार पर 1 रत्ती मान लें – सूर्य का रत्न मणिक्य स्वर्ण या ताम्र में मंढ़वा कर रविवार को कच्चे दूध एवं गंगा जल से धोकर ( और संभव हो तो ब्राह्मणों प्राण प्रतिष्ठा करवाकर ) सूर्य के किसी तांत्रिक मंत्र का 108 बार जाप कर अनामिका उंगली में धारण करना चाहिए।

9.सूर्य की जड़ी धारण (सूर्य और हमारा स्वास्थ्य)

रविवार की प्रातः काल बिल्वपत्र ( बेलपत्र ) की जड़ का इंच का टुकड़ा लाल या गुलाबी धागे में  धारण करें।को जडी़ ( इंच का टुकड़ा लाल कपड़े में सी कर गंगाजल से यंत्र को धो कर, सीधे हाथ में धारण करना चाहिए।

Nautapa क्या होता है नौतपा

निष्कर्ष : 

साथियों हमने जाना सूर्य और हमारा स्वास्थ्य दोनों एक दूसरे से कैसे जुड़े है , जब सूर्य या अन्य ग्रह निर्बल हो तो उस ग्रह के मंत्रों का जाप , रत्न आदि धारण करने चाहिए , यदि कोई उपाय कर रहें हों तो वो निरंतर और लंबे समय तक करने चाहिए जबकि उपाय करने वाले लोग शीघ्र ही उपाय छोड़ देते है और सफलता के निकट पहुचकर उपाय बदल देते है या उपाय बताने वाले को बदल देते है और दूसरा उपाय  शून्य से आरंभ करते है।

किसी भी ज्योतिषीय सलाह के लिए आप हमारे mobile number 8533087800 पर संपर्क कर सकते है , इसके साथ ही आप ग्रह शांति जाप ,पूजा , रत्न  परामर्श और रत्न खरीदने के लिए अथवा कुंडली के विभिन्न दोषों जैसे मंगली दोष , पित्रदोष , कालसर्प दोष आदि की पूजा और निवारण उपाय जानने के लिए भी संपर्क कर सकते हैं 

कुंडली विश्लेषण के लिए पहले whatsapp number 8533087800 पर संपर्क करे उसके बाद ही कॉल  करें 

अपना ज्योतिषीय ज्ञान वर्धन के लिए हमारा ज्योतिष ग्रुप के साथ जुड़े , नीचे दिए link पर click करें

श्री गणेश ज्योतिष समाधान 

ये भी पढे : 12 राशियों के अनुसार बिजनेस में लाभ प्राप्ति के उपाय profit in business as per zodiac sign

 

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!