chota char dham

यमुनोत्री धाम -छोटा चार धाम में प्रथम धाम

हम बद्रीनाथ ,द्वारिका ,रामेश्वरम और जगन्नाथपुरी धाम जाते है | इस चार धाम यात्रा में समय और धन दोनों ही अधिक लगते है किन्तु यदि किसी कारणवश आप इन चार धाम की यात्रा नही कर सकते है तो आपके पास छोटा चार धाम यात्रा का विकल्प भी है जिसमे यमुनोत्री , गंगोत्री , केदारनाथ और बद्रीनाथ की यात्रा की जाती है |

गंगोत्री-जहाँ स्वर्ग से आयीं पाप नाशिनी माँ गंगा

पौराणिक हिन्दू धर्म ग्रंथों के अनुसार भगवान राम के पूर्वज रघुवंश कुल के चक्रवर्ती राजा भगीरथ ने भागीरथी शिलाखंड पर बैठकर अपने पूर्वजो को कपिल मुनि के श्राप से मुक्ति दिलाने के लिए अत्यधिक कठिन तपस्या की जिससे माँ गंगा पृथ्वी पर अवतरित हुई

प्रभु बद्रीनाथ धाम-वैकुण्ठ के बाद प्रभु विष्णु का निवास

बद्रीनाथ मन्दिर की प्राचीनता इसी से पता चलती है कि बद्रीनाथ मंदिर का उल्लेख विष्णु पुराण, महाभारत तथा स्कन्द पुराण समेत कई प्राचीन ग्रन्थों में मिलता है और प्रभु बद्रीनाथ तीर्थ के बारे में ये कहा गया है कि स्वर्ग, पृथ्वी तथा नर्क तीनों ही स्थान में चाहे कितने ही तीर्थ हो किन्तु बद्रीनाथ जैसा तीर्थ न कभी था, न है और न ही कभी होगा।

प्रभु केदारनाथ धाम,उत्तरांचल

उत्तराखंड राज्य के रूद्रप्रयाग जिले में हिमालय में केदार पर्वत पर विराजित है प्रभु केदारनाथ,जोकि हिन्दू धर्म के 12 ज्योतिर्लिंगों और चारों धाम में से भी एक है

error: Content is protected !!