Thursday, August 18
Shadow

छोटा चार धाम Chota char dham

yamunotri ( यमुनोत्री )-Know 9 facts of chota char dham

yamunotri ( यमुनोत्री )-Know 9 facts of chota char dham

उत्तर भारत के तीर्थ, छोटा चार धाम Chota char dham, तीर्थ-Tirth/Pilgrimage
yamunotri ( यमुनोत्री )- Know 9 facts of chota char dham yamunotri छोटा चार धाम (char dham ) yamunotri ( यमुनोत्री ) हिन्दू धर्म में चार धाम (char dham ) यात्रा का बहुत ही महत्व है | पहली चार धाम यात्रा में हम बद्रीनाथ ,द्वारिका ,रामेश्वरम और जगन्नाथपुरी धाम जाते है | इस चार धाम यात्रा में समय और धन दोनों ही अधिक लगते है किन्तु यदि किसी कारणवश आप इन चार धाम की यात्रा नही कर सकते है तो आपके पास छोटा चार धाम (char dham ) यात्रा का विकल्प भी है जिसमे यमुनोत्री , गंगोत्री , केदारनाथ और बद्रीनाथ की यात्रा की जाती है | बद्रीनाथ,केदारनाथ,गंगोत्री धाम का वर्णन हम पहले ही कर चुके है  और इस लेख में हम जानेंगे यमुनोत्री धाम के बारे में| यमुनोत्री धाम हिमालय पर्वत में स्थित उत्तराखंड राज्य के उत्तरकाशी जनपद में उत्तरकाशी से 30 किमी उत्तर में समुद्र तल से 3,293 मीटर यानी 10,804 फीट ) की ऊँचाई पर स...
गंगोत्री(Gangotri)-a 2 z important facts of devine holy place

गंगोत्री(Gangotri)-a 2 z important facts of devine holy place

उत्तर भारत के तीर्थ, छोटा चार धाम Chota char dham
गंगोत्री(Gangotri)-a 2 z important facts of devine holy place गंगोत्री(gangotri ) , उत्तरभारत का प्रमुख और अत्यधिक पवित्र संसार भर में लोकप्रिय हिन्दू तीर्थ स्थान है,जोकि उत्तराखंड राज्य के गढ़वाल क्षेत्र के उत्तरकाशी जनपद में समुद्र तल से लगभग 3042 मीटर की ऊँचाई पर, उत्तरकाशी से लगभग 100 किमी दूर स्थित है | गंगोत्री (gangotri) माँ गंगा का उद्गम स्थल ( जी हां भारत के मूल धर्म,हिन्दू धर्म में नदी को भी माँ ही माना गया है और गंगा नदी के पृथ्वी पर आने की कथा अनेक साधू संतो के प्रयास से जुड़ी हुई ) है और भारत की सबसे बड़ी और संसार की दूसरी सबसे बड़ी नदी है | गंगोत्री गोमुख gangotri gomukh गंगोत्री (gangotri) से 19 किमी दूर गोमुख नामक पवित्र स्थान माँ गंगा नदी का उद्गम स्थान है। गंगोत्री में बने गंगोत्री मंदिर के कपाट,अक्षय तृतीया तिथि को खुलते है जोकि प्रत्येक वर्ष वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की...
बद्रीनाथ (badrinath dham) 1 of the char dham yatra A 2 Z Complete & Easy Guide

बद्रीनाथ (badrinath dham) 1 of the char dham yatra A 2 Z Complete & Easy Guide

उत्तर भारत के तीर्थ, चार धाम Char dhaam, छोटा चार धाम Chota char dham, तीर्थ-Tirth/Pilgrimage
बद्रीनाथ (badrinath dham) 1 of the char dham A 2 Z Complete & Easy Guide बद्रीनाथ (badrinath dham - char dham) उत्तराखण्ड राज्य के चमोली जनपद में अलकनन्दा नदी के तट पर स्थित है जो बैकुंठ के बाद प्रभु विष्णु  का दूसरा निवास स्थान है | बद्रीनाथ (badrinath dham )  में भगवान विष्णु की शालिग्राम से बनी हुई लगभग 3.3 मीटर स्थापित है और कहा जाता है की इस मूर्ती को आदि शंकराचार्य ने नारद कुंड से निकालकर यहाँ स्थापित किया था और ये भी कहा जाता है की भगवान् विष्णु की ये मूर्ती स्वंम प्रकट हुई थी और ये किसी मानव के द्वारा निर्मित मूर्ती नही है | बद्रीनाथ तीर्थ के महत्व और प्रसिद्धि के कारण ही यहाँ का पूरा क्षेत्र ही बद्रीनाथ (char dham )  कहलाता है , साथ ही ये भी कहा जाता है कि यहाँ कभी बद्री (बेर) के वृक्षों के के घने वन थे | हिन्दू धर्मानुसार हिमालय की गोद में स्थित बद्रीनाथ...
केदारनाथ ज्योतिर्लिंग Kedarnath temple-Kedarnath jyotirlinga A 2 Z Complete & Easy Guide

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग Kedarnath temple-Kedarnath jyotirlinga A 2 Z Complete & Easy Guide

12 jyotirlinga, उत्तर भारत के तीर्थ, छोटा चार धाम Chota char dham, तीर्थ-Tirth/Pilgrimage
केदारनाथ ज्योतिर्लिंग Kedarnath temple-Kedarnath jyotirlinga A 2 Z Complete & Easy Guide Kedarnath temple-Kedarnath jyotirlinga : उत्तराखंड राज्य के रूद्रप्रयाग जिले में हिमालय पर्वत श्रृखला केदार नामक पर्वत पर  समुद्रतल से लगभग 3584 मीटर की ऊंचाई पर  विराजित है प्रभु केदारनाथ ज्योतिर्लिंग ( kedarnath jyotirling) | हिन्दू धर्म के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक और चारों धाम में से एक धाम है केदारनाथ मन्दिर  (kedarnath temple) और साथ ही साथ पंच केदार में से भी एक है केदारनाथ मन्दिर  (kedarnath temple)  | केदारनाथ ज्योतिर्लिंग के एक ओर लगभग 22 हजार फुट ऊँचाई पर केदार पर्वत , दूसरी तरफ 21 हजार 600 फुट ऊँचाई पर खर्चकुंड और तीसरी तरफ  लगभग 22 हजार 700 फुट ऊँचाई पर भरतकुंड स्थित है । इसके साथ ही यहाँ पांच पवित्र नदियाँ स्थित है जिनका नाम है क्षीरगंगा, मधुगंगा, सरस्वती,स्वर्णगौरी,  और...
error: Content is protected !!