Thursday, August 18
Shadow

आरती संग्रह Aarti Sangrah in hindi

सुखी जीवन के लिए पूर्णिमा के दिन करे श्री चंद्र देव की आरती- Shri Chandra Dev Ki Aarti lyrics for devine blessing

सुखी जीवन के लिए पूर्णिमा के दिन करे श्री चंद्र देव की आरती- Shri Chandra Dev Ki Aarti lyrics for devine blessing

आरती संग्रह Aarti Sangrah in hindi
सुखी जीवन के लिए पूर्णिमा के दिन करे श्री चंद्र देव की आरती- Shri Chandra Dev Ki Aarti lyrics for devine blessing Shri Chandra Dev Ki Aarti lyrics: चन्द्र देव की आरती करना अत्यधिक शुभ फलदायक होता है क्योंकि चन्द्र देव की कृपा से समस्त दुखों ,रोगों और मानसिक व्याधियों और चिंताओं से मुक्ति मिलती है.  यदि आप या आपके प्रियजन अवसाद में हों तो प्रति पूर्णिमा चंद्र को जल देकर  चन्द्र देव की आरती ( Chandra Dev Ki Aarti) अवश्य करें , इससे मन प्रसन्न रहता है और जीवन में आशा का संचार होने लगता है , मानसिक एकाग्रता के लिए चन्द्र देव जी की आराधना और स्तुति करना अत्यंत ही फलदायक होता है.विद्धार्थियों के लिए चन्द्र देव की आराधना करना अत्यंत ही फलदायक होता है. Chandra Dev Ki Aarti ** चन्द्र देव की आरती ** ॐ जय सोम देवा, स्वामी जय सोम देवा । दुःख हरता सुख करता, जय आनन्दकारी । रजत सिंहासन राजत, ज्य...
श्री बांके बिहारी जी की आरती Shri Banke Bihari Ki Aarti Lyrics complete

श्री बांके बिहारी जी की आरती Shri Banke Bihari Ki Aarti Lyrics complete

आरती संग्रह Aarti Sangrah in hindi
श्री बांके बिहारी जी की आरती Shri Banke Bihari Ki Aarti Lyrics complete श्री बांके बिहारी जी की आरती Shri Banke Bihari Ki Aarti Lyrics -भगवान श्री कृष्ण का ही दूसरा नाम बांके बिहारी जिनकी लीलाओं से ओतप्रोत वृंदावन में हर दिन देश विदेश से हजारों श्रद्धालु श्री बांके बिहारी के दर्शन करने आते हैं. वृंदावन वो पावन भूमि है जहाँ भगवान श्री कृष्ण ने लीलाएं की थीं. आइए करते है श्री बांके बिहारी तेरी आरती श्री बांके बिहारी तेरी आरती गाऊं, हे गिरधर तेरी आरती गाऊं । आरती गाऊं प्यारे आपको रिझाऊं, श्याम सुन्दर तेरी आरती गाऊं । श्री बांके बिहारी तेरी आरती गाऊं || श्री बांके बिहारी जी की आरती Banke Bihari Ki Aarti Lyrics मोर मुकुट प्यारे शीश पे सोहे, प्यारी बंसी मेरो मन मोहे । देख छवि बलिहारी मैं जाऊं । श्री बांके बिहारी तेरी आरती गाऊं || श्री बांके बिहारी जी की आरती Banke Bihari Ki Aarti Lyr...
श्री शनिदेव के सिद्ध मन्त्र और आरती( 9 shanidev mantra & aarti)

श्री शनिदेव के सिद्ध मन्त्र और आरती( 9 shanidev mantra & aarti)

trending google, आरती संग्रह Aarti Sangrah in hindi, पूजा पाठ Pooja Path
श्री शनिदेव के सिद्ध मन्त्र और आरती( 9 shanidev mantra & aarti) श्री शनिदेव के सिद्ध मन्त्र और आरती( 9 shanidev mantra & aarti): शनि की शुभ दृष्टि  रंक को राजा बना सकती है। वहीं शनि महाराज की बुरी दृष्टि  राजा को रंक बना देती है। इसलिए शनि की शांति के लिए शनि की पूजा  करना अति आवश्यक  है। शनि की ढैय्या और साढ़ेसाती का प्रभाव कम करने के लिए शनि के विभिन्न मंत्रो का जाप करना  फलदायक माना गया है। इन मंत्रों से केवल ढैय्या और साढ़ेसाती का प्रभाव ही नहीं बल्कि व्यक्ति के कष्टों का निवारण हो जाता है। आप प्रति शनिवार की शाम को पीपल के पेड़ के नीचे अथवा शमी के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाएं। इससे शनि दशा का प्रभाव कम होता है। शनिदेव के मन्त्रों का जाप  23000 हजार बार करना चाहिए  आइये जानते है शनिदेव के कुछ प्रभावशाली मंत्र  शनिदेव के सिद्ध मन्त्र -->1. श्री नीलान्जन समाभा...
गायत्री माता की आरती Gayatri Mata Ki Aarti In Hindi & English easy 2 learn

गायत्री माता की आरती Gayatri Mata Ki Aarti In Hindi & English easy 2 learn

आरती संग्रह Aarti Sangrah in hindi, धर्म Religion
गायत्री माता की आरती Gayatri Mata Ki Aarti गायत्री माता की आरती  जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता सत् मारग पर हमें चलाओ, जो है सुखदाता जयति जय गायत्री माता   आदि शक्ति तुम अलख निरञ्जन जग पालन कर्त्री दुःख, शोक, भय, क्लेश, कलह दारिद्रय दैन्य हर्त्री जयति जय गायत्री माता   ब्रहृ रुपिणी, प्रणत पालिनी, जगतधातृ अम्बे भवभयहारी, जनहितकारी, सुखदा जगदम्बे जयति जय गायत्री माता   भयहारिणि भवतारिणि अनघे, अज आनन्द राशी अविकारी, अघहरी, अविचलित, अमले अविनाशी जयति जय गायत्री माता   कामधेनु सत् चित् आनन्दा, जय गंगा गीता सविता की शाश्वती शक्ति तुम सावित्री सीता जयति जय गायत्री माता   ऋग्, यजु, साम, अथर्व, प्रणयिनी, प्रणव महामहिमे कुण्डलिनी सहस्त्रार सुषुम्ना, शोभा गुण गरिमे जयति जय गायत्री माता   स्वाहा, स्वधा, शची, ब्रहाणी, राधा, रुद्राणी ज...
आरती कुंजबिहारी की Aarti Kunj Bihari Ki in Hindi & English easy 2 learn

आरती कुंजबिहारी की Aarti Kunj Bihari Ki in Hindi & English easy 2 learn

trending google, आरती संग्रह Aarti Sangrah in hindi
आरती कुंजबिहारी की Aarti Kunj Bihari Ki in Hindi & English easy 2 learn आरती कुंजबिहारी की (Aarti Kunj Bihari Ki) आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥ आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥ गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला । श्रवण में कुण्डल झलकाला, नंद के आनंद नंदलाला । गगन सम अंग कांति काली, राधिका चमक रही आली । लतन में ठाढ़े बनमाली भ्रमर सी अलक, कस्तूरी तिलक, चंद्र सी झलक, ललित छवि श्यामा प्यारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥ ॥ आरती कुंजबिहारी की...॥ कनकमय मोर मुकुट बिलसै, देवता दरसन को तरसैं । गगन सों सुमन रासि बरसै । बजे मुरचंग, मधुर मिरदंग, ग्वालिन संग, अतुल रति गोप कुमारी की, श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की ॥ ॥ आरती कुंजबिहारी की...॥ जहां ते प्रकट भई गंगा, सकल मन हारिणि श्री गंगा । स्मरन ते होत मोह भंगा बसी शिव सीस, ज...
श्री कुबेर जी की आरती( sri kuber ji ki aarti in hindi )

श्री कुबेर जी की आरती( sri kuber ji ki aarti in hindi )

आरती संग्रह Aarti Sangrah in hindi, More..., धर्म Religion
श्री कुबेर जी की आरती( sri kuber ji ki aarti in hindi ) कुबेर जी की आरती (kuber ji ki aarti)का भी उतना ही महत्व है जितना माँ लक्ष्मी जी की आरती का महत्व होता है , जहाँ माता लक्ष्मी को चंचला कहा जाता है अर्थात माँ लक्ष्मी किसी भी व्यक्ति के यहाँ स्थायी वास नहीं करती हैं जबकि दूसरी ओर कुबेर जी यदि किसी पर प्रसन्न हों जाएँ तो वो उस व्यकी के यहाँ स्थायी वास भी कर सकते है , जिससे उसके घर में कभी धन की कमी नही होगी और प्रचुर मात्र में धन सम्पति स्थायी रूम से होगी  इसलिए कुबेर जी की आरती (kuber ji ki aarti) हम सभी श्री गणेश जी की और माँ लक्ष्मी जी की आरती पूजा के साथ ही करते हैं  , भारत के सबसे बड़े पर्व दीपावली का आरंभ धनतेरस से ही होता है और धनतेरस के दिन को श्री कुबेर जी का ही माना जाता हैं  आइये हम सब भी करते हैं भगवान कुबेर जी की आरती (kuber ji ki aarti) श्री कुबेर जी की आरती (sri kuber...
माँ लक्ष्मी जी की आरती Maa Laxmi Ji Ki Aarti Lyrics in Hindi & english

माँ लक्ष्मी जी की आरती Maa Laxmi Ji Ki Aarti Lyrics in Hindi & english

आरती संग्रह Aarti Sangrah in hindi, धर्म Religion
माँ लक्ष्मी जी की आरती  Laxmi Ji Ki Aarti Lyrics in Hindi & english साथियों हिन्दू धर्म में चाहे गणेशजी की पूजा हो या विष्णु जी की, इनके साथ माँ लक्ष्मी जी की आरती अति आवश्यक है क्योकि माँ लक्ष्मी धन और वैभव की देवी है और धन और वैभव के बिना कोई भी पूजा जैसे संपन्न होगी ? तो आइये करते है माँ लक्ष्मी की आरती :- माँ लक्ष्मी जी की आरती  ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता तुमको निशदिन सेवत, मैया जी को निशदिन सेवत हरि विष्णु विधाता ॐ जय लक्ष्मी माता-2 उमा, रमा, ब्रह्माणी, तुम ही जग-माता सूर्य-चन्द्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता ॐ जय लक्ष्मी माता-2 दुर्गा रूप निरंजनी, सुख सम्पत्ति दाता जो कोई तुमको ध्यावत, ऋद्धि-सिद्धि धन पाता ॐ जय लक्ष्मी माता-2 तुम पाताल-निवासिनि, तुम ही शुभदाता कर्म-प्रभाव-प्रकाशिनी, भवनिधि की त्राता ॐ जय लक्ष्मी माता-2 जिस घर में तुम रहतीं, सब सद्गुण आता ...
माँ सरस्वती जी की आरती Saraswati Mata Ki Aarti Lyrics in hindi & english

माँ सरस्वती जी की आरती Saraswati Mata Ki Aarti Lyrics in hindi & english

आरती संग्रह Aarti Sangrah in hindi, धर्म Religion
माँ सरस्वती जी की आरती Saraswati Mata Ki Aarti Lyrics in hindi & english साथियों समस्त संसार में जिसके पास भी विद्या है,ज्ञान है,संगीत है,सुरलय और ताल है वो सभी कुछ  वीणा वादिनी-हंस वाहिनी-विद्या दायिनी माँ सरस्वती के आशीर्वाद से ही है और हिन्दू धर्म में माँ भगवती अपने भिन्न भिन्न गुणों जैसे सतोगुण , रजोगुण , तमोगुण के साथ अपने भक्तों का कल्याण करती है जिसमे माँ सरस्वती सतोगुणी , माँ लक्ष्मी रजोगुणी और माँ काली तमोगुणी देवियाँ है| माँ सरस्वती जी की आरती जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता।सदगुण वैभव शालिनी, त्रिभुवन विख्याता॥जय सरस्वती माता॥चन्द्रवदनि पद्मासिनि, द्युति मंगलकारी।सोहे शुभ हंस सवारी, अतुल तेजधारी॥जय सरस्वती माता॥बाएं कर में वीणा, दाएं कर माला।शीश मुकुट मणि सोहे, गल मोतियन माला॥जय सरस्वती माता॥देवी शरण जो आए, उनका उद्धार किया।पैठी मंथरा दासी, र...
दुर्गा जी की आरती Durga Ji ki Arti in Hindi

दुर्गा जी की आरती Durga Ji ki Arti in Hindi

आरती संग्रह Aarti Sangrah in hindi, धर्म Religion
दुर्गा जी की आरती Durga Ji ki Arti in Hindi साथियो नित्य दुर्गा जी की आरती (Durga Ji ki Arti ) करने से धीरे धीरे हमारे सारे कष्ट दूर होने लगते हैं , जगत जननी माँ दुर्गा तो सभी जीवों की माता है ,यदि कुंडली में शुक्र , बुद्ध, शनि या राहु से कष्ट हो,ये ग्रह निर्बल हो तो माँ दुर्गा की शरण में जाए,कष्ट दूर होंगे ॐ जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी तुम को निशदिन ध्यावत हरि ब्रह्मा शिवरी. ॐ जय अम्बे… मांग सिंदूर विराजत टीको मृगमद को उज्जवल से दो नैना चन्द्र बदन नीको. ॐ जय अम्बे… कनक समान कलेवर रक्ताम्बर राजे रक्त पुष्प दल माला कंठन पर साजे. ॐ जय अम्बे… केहरि वाहन राजत खड़्ग खप्पर धारी सुर-नर मुनिजन सेवत तिनके दुखहारी. ॐ जय अम्बे… कानन कुण्डल शोभित नासग्रे मोती कोटिक चन्द्र दिवाकर राजत सम ज्योति. ॐ जय अम्बे… शुम्भ निशुम्भ विडारे महिषासुर धाती धूम्र विलोचन नै...
हनुमान जी की आरती hanuman ji ki aarti

हनुमान जी की आरती hanuman ji ki aarti

आरती संग्रह Aarti Sangrah in hindi
हनुमान जी की आरती hanuman ji ki aarti मित्रों हनुमान जी की आरती hanuman ji ki aarti का पाठ से चमत्कारिक फल मिलते हुए देखे गए हैं यदि कुंडली में शनि या राहु से कष्ट हो,ये ग्रह निर्बल हो तो इस  आरती के पाठ से सभी कष्ट दूर हो जाते है ,प्रभु राम के परम भक्त हनुमान जी शक्ति और उर्जा के प्रतीक है, जब भी जीवन में निराशा आ जाये , शक्ति और उर्जा की कमी का अनुभव हो तो प्रभु हनुमान जी को ध्यान करें हनुमान जी की आरती hanuman ji ki aarti आरती कीजै हनुमान लला की। दुष्ट दलन रघुनाथ कला की॥ जाके बल से गिरिवर कांपे। रोग दोष जाके निकट न झांके॥ अंजनि पुत्र महा बलदाई। सन्तन के प्रभु सदा सहाई॥ दे बीरा रघुनाथ पठाए। लंका जारि सिया सुधि लाए॥ लंका सो कोट समुद्र-सी खाई। जात पवनसुत बार न लाई॥ लंका जारि असुर संहारे। सियारामजी के काज सवारे॥ लक्ष्मण मूर्छित पड़े सकारे। आनि संजीवन प्राण उबारे॥ पैठि पाताल ...
error: Content is protected !!