Monday, February 6
Shadow

trending google

घर में चांदी का हाथी रखने के लाभ 9 Benefits of Silver Elephant(Chandi ka hathi)

घर में चांदी का हाथी रखने के लाभ 9 Benefits of Silver Elephant(Chandi ka hathi)

trending google, उपाय-टोटके Upay Totke, ज्योतिष-Astrology
घर में चांदी का हाथी रखने के लाभ 9 Benefits of Silver Elephant (Chandi ka hathi) Chandi ka hathi :वास्तु के नियमानुसार घर में चांदी का हाथी की मूर्ति रखने से मान-सम्मान और यश की प्राप्ति होती है. चांदी के हाथी से नकारात्मकता दूर होती है और सकारात्मकता बढ़ती हैं. घर में प्रसन्नता का वातावरण बना रहता है और व्यापार में उन्नति मिलती है. हाथी की मूर्ति रखने से परिवार में सुख-समृद्धि का स्थायी वास होता है. चांदी से बना हाथी ज्योतिष और वास्तु की दृष्टि से बहुत शुभ माना गया है. चांदी से बने हाथी की मूर्ति (Silver Elephant) पेंटिंग या चित्र को हिंदू धर्म के साथ साथ वास्तु (Vastu) और फेंगशुई विज्ञान में भी बहुत शुभ बताया गया है क्योंकि माँ लक्ष्मी का एक रूप गजलक्ष्मी भी होता है और हाथी को भगवान गणेश का स्वरूप भी माना गया है , इसके साथ ही हाथी माँ लक्ष्मी की सवारी भी होता है । इसलिए चांदी का ह...
कुंडली मे डॉक्टर बनने के योग कैसे बनते हैं Kundli Yoga to be a Successful Doctor

कुंडली मे डॉक्टर बनने के योग कैसे बनते हैं Kundli Yoga to be a Successful Doctor

trending google, ज्योतिष
कुंडली मे डॉक्टर बनने के योग कैसे बनते हैं ? Kundli Yoga to be a Successful Doctor Kundli Yoga to be a Successful Doctor- कुंडली मे डॉक्टर बनने के योग कैसे बनते हैं आइए आज हम इस विषय पर चर्चा करते हैं , मित्रों आज सभी युवाओं के मन मे अपने करियर को लेकर एक चिंता होती है। अपने जीवन मे करियर का चुनाव करना बहुत ही महत्वपूर्ण विषय होता है जिसमे युवाओं के लिए ज्योतिष एक मार्गदर्शक की भूमिका निभा सकता है। किसी की भी कुंडली में दूसरा व पंचम भाव का संबंध शिक्षा से होता है जिसमे दूसरे भाव से प्राथमिक शिक्षा और और पंचम भाव से उच्च शिक्षा का पता चलता है। अब यदि यदि पंचम व दशम भाव मे परस्पर संबंध बन रहा हो और ये किसी न किसी रूप से छठें या बारहवें भाव से भी जुड़ा हो तो  व्यक्ति के चिकित्सा के क्षेत्र में जाने की सम्भावना बन जाती है। किसी भी व्यक्ति के एक सफल चिकित्सक बनने के लिए गुरू का लग्न, ...
peepal tree vastu:पीपल दूर करता है विवाह बाधा,ग्रह दोष और पीड़ा, कैसे करें पीपल की पूजा

peepal tree vastu:पीपल दूर करता है विवाह बाधा,ग्रह दोष और पीड़ा, कैसे करें पीपल की पूजा

trending google, वास्तु vastu
peepal tree vastu:पीपल दूर करता है विवाह बाधा,ग्रह दोष और पीड़ा, कैसे करें पीपल की पूजा peepal tree vastu:पीपल को हिन्दू धर्म में बहुत ही शुभ वृक्ष माना गया है। जब हम पीपल की पूजा करते हैं तो उसके हमे बहुत ही चमत्कारी परिणाम मिलते हैं और ऐसा शास्त्रों में भी बताया गया है। शनिवार के दिन पीपल की पूजा विशेष रूप से करने से हम सब के संकट दूर होते हैं और जीवन मे धन, समृद्धि, यश, कीर्ति आदि की प्राप्ति होने लगती है। पीपल के पेड़ का महत्व सनातन धर्म में अत्यधिक है क्योंकि पीपल की पूजा भगवान विष्णु को प्रसन्न करने और विवाह बाधा दूर करने में सहायक है. भगवान श्रीकृष्ण ने भगवद गीता में स्वयं कहा है, वृक्षों में मैं पीपल हूं. लोगों का मानना है कि पीपल के वृक्ष में शनिदेव का वास होता है इसीलिए पीपल की पूजा को शनिदेव के दोषों को दूर करने वाला माना गया है । इन्ही सब महत्वों के कारण है पीपल का स्थ...
shukra graha gochar 2023: शुक्र ग्रह का राशि परिवर्तन-इन चार राशियों का चमकेगा भाग्य – these four zodiac signs will shine

shukra graha gochar 2023: शुक्र ग्रह का राशि परिवर्तन-इन चार राशियों का चमकेगा भाग्य – these four zodiac signs will shine

trending google, ज्योतिष
shukra graha gochar 2023: शुक्र ग्रह का राशि परिवर्तन-इन चार राशियों का चमकेगा भाग्य - these four zodiac signs will shine shukra graha gochar 2023: हमारे जीवन मे सभी प्रकार भोग-विलास और सुख-सुविधा शुक्र ग्रह देते हैं इसलिए शुक्र ग्रह का राशि परिवर्तन हमारे जीवन मे बहुत ही महत्वपूर्ण होता है और उनका कुंडली मे सही स्थान पर होना अति आवश्यक होता है। सभी ग्रह एक निश्चित समय के बाद एक राशि से दूसरी राशि मे चले जाते है अर्थात राशि परिवर्तन करते हैं। जिसका प्रभाव सभी राशि के व्यक्तियों पर पड़ता है। यह प्रभाव शुभ या अशुभ दोनों ही प्रकार के होते हैं। वर्तमान मे 22 जनवरी 2023, रविवार के दिन के 02 बजकर 23 मिनट पर शुक्र ग्रह कुंभ राशि में आ रहें हैं। शुक्र ग्रह का राशि परिवर्तन सभी राशियों को प्रभावित करेगा किन्तु तीन ऐसी राशियां हैं जिनका भाग्योदय होने की अत्यधिक संभावना है ।shukra graha gochar...
shani sadhesati: वर्ष 2023 में कौन सी राशियों पर होगी शनि की साढ़ेसाती shani ke upay 

shani sadhesati: वर्ष 2023 में कौन सी राशियों पर होगी शनि की साढ़ेसाती shani ke upay 

trending google, ज्योतिष
shani sadhesati: वर्ष 2023 में कौन सी राशियों पर होगी शनि की साढ़ेसाती shani ke upay shani sadhesati : वर्ष 2023 के आरंभ में शनि 17 जनवरी 2023 को कुंभ राशि में गोचर करेंगे। कुंभ राशि शनि की स्वयं की राशि है। नए वर्ष में अनेक ग्रहों का राशि परिवर्तन भी होगा जैसे वर्ष 2023 में शनि, गुरु और राहु-केतु जैसे बड़े और प्रभावशाली ग्रहों का राशि परिवर्तन देखने को मिलेगा। जिसका प्रभाव हम सब के जीवन में पड़ेगा। शनि मकर राशि से निकालकर कुंभ राशि में आते ही कुछ राशि वालों को शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या से मुक्ति मिल जाएगी वहीं कुछ पर साढ़ेसाती आरंभ हो जाएगी। 17 जनवरी 2023 को जैसे ही शनि मकर से कुंभ राशि में आ जायेंगे,  धनु राशि के लोगों को शनि की साढ़ेसाती से छुटकारा मिल जाएगा। वहीं तुला राशि और मिथुन राशि के लोगों की ढैय्या समाप्त हो जाएगी। कार्यो में सफलता मिलने लगेगी , भाग्य का अच्छा साथ प्राप्त ...
shani gochar 2023: शनिग्रह का राशि परिवर्तन किन राशियों के लिए होगा लाभदायक

shani gochar 2023: शनिग्रह का राशि परिवर्तन किन राशियों के लिए होगा लाभदायक

trending google, ज्योतिष
shani gochar 2023: शनिग्रह का राशि परिवर्तन किन राशियों के लिए होगा लाभदायक shani gochar 2023: 17 जनवरी 2023 को शनि ग्रह अपनी स्वयं की राशि कुंभ राशि में प्रवेश कर जाएंगे । ये शनि ग्रह का राशि परिवर्तन है जिसे ज्योतिष मे बहुत ही महत्वपूर्ण माना जा रहा है। शनि का अपनी मूल त्रिकोण राशि कुंभ में आ जायेंगे जिससे शश नामक राज योग भी बन रहा है। लगभग 30 वर्ष बाद ऐसी घटना घट रही है। ऐसे में शनि ग्रह का ये राशि परिवर्तन 4 राशियों के लिए भाग्यवर्धक हो सकता है shani gochar 2023 आइये जानते है शनि ग्रह का राशि परिवर्तन : किन राशियों का बदलेगा भाग्य  1. मेष राशि : शनि मेष राशि के एकादश भाव में गोचर करेंगे। इस समय मेष राशि में  राहु का गोचर है और बृहस्पति का गोचर होगा।  ऐसे में धन संपत्ति को लेकर आपकी भाग्य चमक जायेगा । शनिग्रह का राशि परिवर्तन मेष वालों को आय में वृद्धि देगा और आपको नौकरी, करिय...
Makar Sankranti 2023 Date: मकर संक्रांति कब है-14 या 15 जनवरी? जाने मकर संक्रांति के उपाय,दान,महत्व और शुभ मुहर्त 

Makar Sankranti 2023 Date: मकर संक्रांति कब है-14 या 15 जनवरी? जाने मकर संक्रांति के उपाय,दान,महत्व और शुभ मुहर्त 

trending google, पूजा पाठ Pooja Path
Makar Sankranti 2023 Date: मकर संक्रांति कब है-14 या 15 जनवरी? जाने मकर संक्रांति के उपाय,दान,महत्व और शुभ मुहर्त Makar Sankranti 2023 Date: सनातन धर्म में मकर संक्रांति एक बहुत ही महत्वपूर्ण पर्व माना गया है. कुछ वर्ष ऐसे होते है जब मकर संक्रांति कब है ये पता ही नहीं चलता क्योंकि कुछ वर्ष मकर संक्रांति 14 तो कुछ वर्ष 15 को मनाई जाती है . इस वर्ष 2023 में भी मकर संक्रांति की तिथि को लेकर लोगों के बीच भ्रम की स्थिति बनी हुई है. मकर संक्रांति को देश के अलग-अलग राज्यों मे अनेक नामों से जाना जाता है इस पर्व को गुजरात में उत्तरायण, दक्षिण भारत में इस दिन को पोंगल और पूर्वी उत्तर प्रदेश में खिचड़ी कहा जाता है।  हिंदू धर्म शास्त्रों में मकर संक्रांति की तिथि को लेकर जो नियम है वो इस दोहे मे दिया हुआ है ‘‘माघ मकरगत रबि जब होई। तीर्थपतिहिं आव सब कोई’’ इस लिए इस वर्ष जानए हैं कि मकर संक्र...
Sankashti Chaturthi 2023 Date: संकष्टी चतुर्थी की सकट पूजा ( sakat pooja) का व्रत का महत्व,पूजा,मुहर्त की संपूर्ण जानकारी

Sankashti Chaturthi 2023 Date: संकष्टी चतुर्थी की सकट पूजा ( sakat pooja) का व्रत का महत्व,पूजा,मुहर्त की संपूर्ण जानकारी

trending google, पूजा पाठ Pooja Path
Sankashti Chaturthi 2023 Date: संकष्टी चतुर्थी की सकट पूजा ( sakat pooja) का व्रत का महत्व,पूजा,मुहर्त की संपूर्ण जानकारी Sankashti Chaturthi 2023 Date: संकष्टी चतुर्थी की सकट पूजा ( sakat pooja) का व्रत भगवान गणेश की पूजा से जुड़ा हुआ व्रत है। गणेश जी का ये सकट चौथ व्रत संतान की सुख समृद्धि की कामना के लिए माताएं रखती हैं और इसके लिए वो पूरे दिन निर्जला व्रत रखती हैं,  माघ माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को संकष्टी चतुर्थी का व्रत रखा जाता है संकष्टी चतुर्थी की सकट पूजा ( sakat pooja) को सकट चौथ, लंबोदर चतुर्थी, तिलकुटा चौथ ,माघी चतुर्थी (Magh chaturthi),बहुला चौथ और वक्रतुण्ड चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है. सकट चौथ व्रत के पुण्य लाभ से संतान दीर्धायु होती है और उन्हे अच्छा स्वास्थ मिलता है. वर्ष में अनेक चतुर्थी व्रत रखे जाते हैं लेकिन सकट चौथ का अपना ही महत्व है , आइए जानत...
Shakambhari Purnima 2023: जाने कब है शाकंभरी पूर्णिमा, कैसे प्रकट हुई शाकंभरी माता

Shakambhari Purnima 2023: जाने कब है शाकंभरी पूर्णिमा, कैसे प्रकट हुई शाकंभरी माता

trending google, धर्म Religion
Shakambhari Purnima 2023: जाने कब है शाकंभरी पूर्णिमा, कैसे प्रकट हुई शाकंभरी माता Shakambhari Purnima 2023: शाकंभरी माता को आदि शक्ति माँ दुर्गा का शांत और सौम्य अवतार कहा गया है। शाकंभरी माता का जन्म पौष पूर्णिमा के दिन होता है इसीलिए पौष पूर्णिमा के दिन शाकंभरी माता की जयंती मनाई जाती है इसीलिए इसे शाकंभरी पूर्णिमा कहा जाता है । देवी दुर्गा के अनेक रूप हैं जिनमे शाकंभरी माता का भी एक रूप है। माँ शाकंभरी की हजारों आंखें हैं इसीलिए माता के इस रूप को शताक्षी भी कहते हैं। प्रति वर्ष पौष पूर्णिमा का दिन शाकंभरी जयंती पर्व को मनाया जाता है इसलिए इसे शाकंभरी पूर्णिमा कहते हैं । इस बार शाकंभरी पूर्णिमा 6 जनवरी 2023 , शुक्रवार को है। शाकंभरी नवरात्रि का अंतिम दिन शाकंभरी पूर्णिमा का दिन होता है। अधिकांश नवरात्र शुक्ल पक्ष प्रतिपदा से आरंभ होते हैं जबकि शाकंभरी नवरात्रि पौष माह पूर्णिमा से...
Pausha putrada Ekadashi 2023-पौष पुत्रदा एकादशी व्रत के लाभ,व्रत कथा, मुहर्त,विधि जाने विस्तार से 

Pausha putrada Ekadashi 2023-पौष पुत्रदा एकादशी व्रत के लाभ,व्रत कथा, मुहर्त,विधि जाने विस्तार से 

trending google, धर्म Religion, पूजा पाठ Pooja Path
Pausha putrada Ekadashi 2023-पौष पुत्रदा एकादशी व्रत के लाभ,व्रत कथा, मुहर्त,विधि जाने विस्तार से Pausha putrada Ekadashi 2023 : एकादशी व्रत सभी व्रतों में सर्वशेष्ठ होता है, नव वर्ष 2023 का पहला व्रत पौष पुत्रदा एकादशी 2023 का व्रत है ,इसे ही बैकुण्ठ एकादशी भी कहते हैं। एक वर्ष में 24 एकादशी व्रत रखे जाते हैं लेकिन वर्ष 2023 में अधिक मास होने के कारण 26 एकादशी व्रत रखे जाएंगे, एक वर्ष में दो बार पुत्रदा एकादशी आती है। पहली पुत्रदा एकादशी का व्रत और पूजन पौष माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि किया जाता है। वहीं दूसरी पुत्रदा एकादशी का व्रत और पूजन श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को किया जाता है। जिन लोगों को संतान नहीं हुई है उन लोगों के लिए ये व्रत रखना बहुत ही शुभफलदायी होता है। पुत्रदा एकादशी का व्रत रखने और इस दिन पूजा करने से भगवान विष्णु की कृपा से संतान प्राप्ति होती...
error: Content is protected !!