1 अप्रैल 2020 से बैंकों का विलय|bank merger 2020

CREDIT CARDS
अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

merger of 10 PSU banks in hindi 

1 अप्रैल 2020 से बैंकों का विलय

(bank merger 2020)

भारत के दस सरकारी बैंकों का विलय 1 अप्रैल 2020 यानि आज बुद्धवार से हो जायेगा और  हो सकता है की आज से आपका बैंक भी बदल जाये| जिन बैंकों का दूसरे बैंकों में विलय होगा उनकी शाखाएं ,उन बैंकों की शाखाओं के रूप में काम करेंगी जिनमें उनका विलय हो चुका है और उनके ग्राहक भी अपने आप ही उन बैंकों ग्राहक बन जायेंगे , जिनमें इन बैंकों का विलय किया गया है।

पिछले साल अगस्त में बैंकों के विलय की घोषणा की गई थी और केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 4 मार्च को अंतिम मंजूरी दी थी।

अतीत में भी , विभिन्न बैंकों का विलय हुआ हैं |

जैसे – 2017 में, देश के सबसे बड़ा सार्वजनिक बैंक – भारतीय स्टेट बैंक में, उसके 5 सहयोगी बैंक और भारतीय महिला बैंक का विलय हो चुका है|

पिछले साल विजया बैंक और देना बैंक को बैंक ऑफ बड़ौदा में मिला दिया गया था।

कोटक महिंद्रा बैंक और आईएनजी वैश्य बैंक का विलय और सेंचुरियन बैंक ऑफ पंजाब लिमिटेड के साथ एचडीएफसी बैंक का विलय क्रमशः 2014 और 2008 में हुआ चुका है ।

यहां maihindu.com आपको उन सभी सार्वजनिक बैंकों की सूचना दे रहा है , जिनको एक दूसरे के साथ 1 अप्रैल 2020 से विलय कर दिया जायेगा :

1) ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स (OBC) और यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया (UBI) का पंजाब नेशनल बैंक (PNB) में विलय कर दिया जाएगा।

विलय के बाद,  पंजाब नेशनल bank(pnb) ,भारतीय स्टेट बैंक (SBI) के बाद देश का दूसरा सबसे बड़ा सार्वजनिक क्षेत्र का बैंक बन जाएगा। जिसके पास 17.95 लाख करोड़ का व्यापार और 11,427 शाखाओं का विशाल नेटवर्क होगा|    

2) सिंडिकेट बैंक को केनरा बैंक में विलय कर दिया जाएगा, जो इसे सार्वजनिक क्षेत्र का चौथा सबसे बड़ा ऋणदाता बैंक बना देगा। जिसके पास 15.20 लाख करोड़ का व्यापार और 10,324 शाखाओं का विशाल नेटवर्क होगा|

3) आंध्रा बैंक और कॉर्पोरेशन बैंक का विलय ,यूनियन बैंक ऑफ इंडिया का में विलय होगा और ये 14.59 लाख करोड़ के व्यापार और 9,609 शाखाओं के साथ  पांचवा सबसे बड़ा बैंक होगा |

4) इलाहाबाद बैंक का विलय इंडियन बैंक में हो जायेगा और 8.08 लाख करोड़ के व्यापार के साथ ये सातवाँ सबसे बड़ा बैंक होगा ।

5) विलय के बाद, 12 सार्वजनिक बैंक होंगे – जिसमे छह विलय वाले बैंक और छह स्वतंत्र सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक।

जैसे :-विलय वाले बैंक – एसबीआई, बैंक ऑफ बड़ौदा, पंजाब नेशनल बैंक, केनरा बैंक, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, इंडियन बैंक

और स्वतन्त्र सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक – इंडियन ओवरसीज बैंक, यूको बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, पंजाब एंड सिंध बैंक, बैंक ऑफ इंडिया, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया।

 

विलय (merger)का ग्राहकों पर प्रभाव / क्या हमारे बैंक की शाखा बंद होगी

कोई विशेष प्रभाव नही पड़ेगा मात्र बैंक का नाम बदल जायेगा और हो सकता है कि जिस बैंक में आपका खाता चला जाये और यदि उस बैंक की पहले से ही कोई शाखा आपके क्षेत्र में हो तो आपका खाता उस शाखा में चला जाये और आपकी बैंक की branch बंद हो जाए |

बैंक बदलने पर ग्राहकों को क्या करना चाहिए :-

बैंक विलय के बाद आप अपने नये बैंक के ग्राहक प्रतिनिधि या बैंक मैनेजर से मिलकर अपने खाते से जुड़ी जानकारी पा सकते है , हो सकता है आपको वहा KYC फॉर्म भरना पड़े|

क्या जमाराशि पर मिलने वाला ब्याज बदल जायेगा :-

बैंक बदलने पर , आपके खाते में जमा धनराशी पर मिलने वाली ब्याज, नए बैंक के नियमानुसार होगी|

सामान्यतः सभी बैंकों की ब्याज दर में बहुत ही कम अंतर होता है ,ये कोई चिंता का विषय नही है |

क्या हमारी पासबुक / चेकबुक बदल जाएगी

जब पहले बैंकों का इस प्रकार का विलय हुआ था तब पासबुक / चेकबुक बदली गयी थीं क्यूंकि चेक​बुक और पासबुक पर अंकित IFSC कोड, ब्रांच कोड आदि भी बदल गया था इसलिए कुछ समय पश्चात् आपका नया बैंक पासबुक / चेकबुक बदल कर दे सकता है|

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!