Wednesday, November 30
Shadow

ज्योतिष

स्त्री की कुंडली में चंद्रमा का प्रभाव stri ki kundli me chandrama-13 moon effects in female horoscope

स्त्री की कुंडली में चंद्रमा का प्रभाव stri ki kundli me chandrama-13 moon effects in female horoscope

trending google, ज्योतिष
स्त्री की कुंडली में चंद्रमा का प्रभाव stri ki kundli me chandrama- 13 moon effects in female horoscope आज हम स्त्री की कुंडली में चंद्रमा का प्रभाव (moon effects in female horoscope) के विषय में जानने का प्रयास करेंगे ,हमने अपने पिछले लेख में स्त्री कुंडली में ग्रह फल के विषय में जाना था,यदि किसी पुरुष की कुंडली में किसी ग्रह विशेष की स्थिति से उस पुरुष को लाभ मिलता है तो ठीक इसके विपरीत उस ग्रह की वही स्थिति किसी स्त्री की कुंडली में अलग प्रभाव देने वाली हो सकती है चंद्रमा से स्त्री का स्वभाव,अन्य लोगों के प्रति व्यवहार , गुण -अवगुण आदि पता चल जाते हैं ।  स्त्री की कुंडली में चंद्रमा- स्त्री के मासिक धर्म ,गर्भाधान, प्रजनन के साथ ही मन, मस्तिष्क, स्वभाव, जननेन्द्रियाँ, गर्भाशय अंडाशय, वक्षस्थल आदि के विषय में बताते हैं  चंद्रमा स्त्री का व्यवहार , स्वाभाव, सौम्यता तय करते हैं क्यो...
कुंडली में कारावास योग कैसे बनता है? 14 Jail Yoga-Imprisonment Yoga in a horoscope

कुंडली में कारावास योग कैसे बनता है? 14 Jail Yoga-Imprisonment Yoga in a horoscope

trending google, ज्योतिष
कुंडली में कारावास योग कैसे बनता है? 14 Jail Yoga-Imprisonment Yoga in a horoscope जेल जाना हमारे जीवन की ऐसी घटना है जिससे हम सभी बचना चाहते है,इस पोस्ट में हम आपको बता रहे हैं कि कुंडली में कारावास योग कैसे बनता है( 14 Jail Yoga-Imprisonment Yoga in a horoscope)? मित्रों ज्योतिष में शनि, मंगल,राहु और द्वादेश, षष्ठेश व अष्टमेश कारावास योग या जेल योग बनाने मुख्य भूमिका निभाते हैं। किसी व्यक्ति की कुंडली में जेल योग को ही कारावास योग या बंधन योग के नाम से भी जाना जाता है.कुंडली में ग्रहीय स्थिति के साथ साथ महादशा, अंतर्दशा भी देखनी होती है , कुंडली में अशुभ ग्रहों की बलवान स्थिति अनेक बार निर्दोष लोगों को भी जेल पहुंचा देती है । शनि  मंगल और राहू यह तीन ग्रह और इनके आपसी सम्बन्ध मुख्य रूप से जेलयोग निर्मित करने वाले हैं । यदि बंधन योग मे शुभ ग्रह भी आते हों या शुभ ग्रहों की दृष्टि...
कुंडली में राजयोग-one of these 3 raj yoga in kundli can change your life

कुंडली में राजयोग-one of these 3 raj yoga in kundli can change your life

trending google, ज्योतिष
कुंडली में राजयोग one of these 3 raj yoga in kundli can change your life कुंडली में राजयोग-raj yoga in kundli : ज्योतिषशास्त्र में कुछ राजयोग होते हैं जो यदि हमारी कुंडली में हों तो हमारा जीवन राजा के समान हो जाता है। विभिन्न राजयोगो के अपने अपने फल होते है और ये फल इस बात पर निर्भर होते हैं कि वो राजयोग किस ग्रह या किन ग्रहों की युति से मिलकर बना है आइये आज maihindu.com की इस पोस्ट के द्वारा ये जानते है कि कुंडली में राजयोग कैसे कैसे होते हैं :- सिंहासन राज योग - सिंहासन योग -Sinhasan Yog  दशमेश के धन भाव अथवा केन्द्र या त्रिकोण में स्थित होने से सिंहासन योग बनता है.ऐसा व्यक्ति राजा समान समृद्धशाली, यशस्वी बन सकता है और उसकी कीर्ति दूर दूर तक फैलती है दशमभवननाथे केन्द्रकोणे धनस्थे । वनिपतिबलयाने शस्तसिंहासनेषु ।। स भवति नरनाथो विश्वविख्यात कीर्ति। मर्दगलितकपोलै: सद् गजै: स...
कुंडली के ये 2 दोष पूरा जीवन बर्बाद कर देते हैं These dosh in kundli ruin the whole life

कुंडली के ये 2 दोष पूरा जीवन बर्बाद कर देते हैं These dosh in kundli ruin the whole life

trending google, ज्योतिष
कुंडली के ये 2 दोष पूरा जीवन बर्बाद कर देते हैं These dosh in kundli ruin the whole life dosh in kundli : किसी भी व्यक्ति की कुंडली में अनेक प्रकार के शुभ योग और अशुभ दोष होते , लेकिन कुंडली के ये 2 दोष पूरा जीवन बर्बाद कर देते हैं , आइये जानते है हमारी कुंडली के कौन से दोष हमें अनेक प्रकार कष्ट प्रदान करते हैं क्या होता है शनि दोष kya hota hai shani dosh in kundli (What is Shani dosh in kundli?) शनिदेव न्याय के देवता है और जब शनिदेव न्याय करते हैं तो हमें अपने द्वारा पूर्व में किये गए अनुचित कार्यों का दंड भोगना पड़ता है , जब भी किसी की कुंडली में शनि दोष होता है तो उसे अपने जीवन में अनेक प्रकार के संघर्ष और आभाव का सामना करना पड़ता है। उस व्यक्ति को अनेक रोगों ने घेरा हुआ होता है , जीवन में धन का आभाव , नशे में लिप्त होना , घर के वाहन का सदैव ख़राब रहना ,अच्छी नौकरी नही मिलना या  नौकर...
Sun in Leo Sign positive or negative : सूर्य का राशि परिवर्तन- 12 राशियों मे किसको होगा लाभ या किसको…Surya Gochar 2022

Sun in Leo Sign positive or negative : सूर्य का राशि परिवर्तन- 12 राशियों मे किसको होगा लाभ या किसको…Surya Gochar 2022

trending google, ज्योतिष
Sun in Leo Sign positive or negative : सूर्य का राशि परिवर्तन- 12 राशियों मे किसको होगा लाभ या किसको...Surya Gochar 2022 Sun in Leo Sign : सूर्य का राशि परिवर्तनहो गया है , सूर्य कर्क राशि से निकलकर सिंह राशि में बजे प्रवेश कर लिया है। सिंह राशि में सूर्य देव 17 अगस्त 2022 प्रातः 07:14 आ गए है, ये राशि सूर्य की स्वंम की राशि है यानि सिंह राशि के स्वामी सूर्य होते है और जब भी कोई ग्रह अपने ही घर में आ जाता है तो वो बलवान हो जाता है इसलिए जिन लोगों के भी कार्य सूर्य की निर्बलता के कारण रुके हुए होंगे उन सभी के कार्य सूर्य के सिंह राशि में आने से बनने लग जायेंगे । Sun in Leo Sign सूर्य के सिंह में गोचर करने से कुछ राशियों को लाभ , कुछ को मिला जुला परिणाम मिलेगा आइये जानते है कि किस राशि को कैसा फल मिलेगा Sun in Leo Sign: सूर्य का राशि परिवर्तन- 12 राशियों मे किसको होगा लाभ या किसको ...
ग्रह के अशुभ होने के संकेत और उसके उपाय Signs of inauspicious planet and its remedies

ग्रह के अशुभ होने के संकेत और उसके उपाय Signs of inauspicious planet and its remedies

ज्योतिष-Astrology, ज्योतिष
ग्रह के अशुभ होने के संकेत और उसके उपाय Signs of inauspicious planet and its remedies ग्रह के अशुभ होने के संकेत और उसके उपाय Signs of inauspicious planet and its remedies : मित्रों ग्रहों का जीवन पर प्रभाव सकरात्मक या नकरात्मक दोनों ही होता है, कुंडली में जब ग्रहों की शुभ स्थिति होती है तो लाभ होता हैं वहीँ ग्रहों का अशुभ स्थिति में होने पर हमें अपने जीवन में अनेक प्रकार की कठिनाइयाँ का सामना करना पड़ता है। जब किसी की कुंडली में कोई ग्रह अशुभ होता है तो उसके व्यवहार में नकरात्मक गुण उत्पन्न हो जाते है और यदि हम उसके व्यवहार पर ध्यान दे तो हमें ये पता चल जाता है कि उस व्यक्ति के जीवन में कौन सा ग्रह अशुभ प्रभाव दे रहा है. ऐसे में यदि हम उस ग्रह से जुड़े उपाय करें तो ग्रहों के बुरे फलों में कमी आती है और हमें अपने परिश्रम का पूरा फल मिलता है तो आइये जान लेते है विभिन्न ग्रहों के नकरा...
क्या होता है चौघड़िया मुहूर्त क्या है इसका का महत्त्व importance of Choghadiya Muhurta

क्या होता है चौघड़िया मुहूर्त क्या है इसका का महत्त्व importance of Choghadiya Muhurta

ज्योतिष
क्या होता है चौघड़िया मुहूर्त क्या है इसका का महत्त्व importance of Choghadiya Muhurta भारत के पश्चिमी प्रदेशों में चौघड़िया मुहूर्त (Choghadiya Muhurta) का महत्त्व अधिक है। चौघड़िया मुहूर्त का प्रयोग मुख्य रूप से क्रय विक्रय में किया जाता है। चौघड़िया मुहूर्त सूर्योदय पर निर्भर करता है। इसलिए सभी नगर के लिए ये अलग होता है। किसी भी दिन के दो भाग हैं दिन और रात। इसमें भी सूर्योदय और सूर्यास्त के मध्य के समय दिन की चौघड़िया और सूर्यास्त और अगले दिन सूर्योदय के मध्य के समय रात्रि की चौघड़िया कहलाती है। ज्योतिष शास्त्र में सूर्योदय से सूर्यास्त तथा सूर्यास्त से सूर्योदय के बीच के समय को 30-30 घटी में बांटा गया है। चौघड़िया मुहूर्त (Choghadiya Muhurta) के लिए फिर उसी 30 घटी की समय अवधि को 8 भागों में विभाजित किया गया है। जिसके परिणामस्वरूप दिन और रात के दौरान 8-8 चौघड़िया मुहूर्त बन जाते हैं। ...
Sun in cancer sign-Kark Sankranti 2022 सूर्य कर्क संक्रांति कब है-जाने महत्व,शुभ मुहूर्त,पूजा विधि

Sun in cancer sign-Kark Sankranti 2022 सूर्य कर्क संक्रांति कब है-जाने महत्व,शुभ मुहूर्त,पूजा विधि

trending google, ज्योतिष
Sun in cancer sign-Kark Sankranti 2022 सूर्य कर्क संक्रांति कब है-जाने महत्व,शुभ मुहूर्त,पूजा विधि Sun in cancer sign-Kark Sankranti 2022 सूर्य कर्क संक्रांति) 16 जुलाई 2022 को सूर्य मिथुन राशि से कर्क राशि में प्रवेश कर जाएंगे। हिंदू धर्म में सूर्य की कर्क संक्रांति का बहुत महत्व है। जब भी सूर्य किसी एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करते हैं तो इस घटनाक्रम को सूर्य संक्रांति कहते हैं जब सूर्य मिथुन राशि से आगे बढ़ते हुए कर्क राशि में आते हैं तो उसे सूर्य कर्क संक्रांति कहा जाता है। वर्ष 2022 मे सूर्य कर्क संक्रांति 16 जुलाई दिन शनिवार को है।  सूर्य सभी 12 राशियों में प्रवेश करते हैं, इस प्रकार वर्ष में कुल 12 संक्रांति होती हैं। इनमें मकर और कर्क संक्रांति का विशेष महत्व है। कर्क संक्रांति पर जप-तप ,पूजा-पाठ और दान आदि करना शुभ फलदायक होता । इस दिन की गई पूजा-पाठ से अनेक प्रकार क...
धोखेबाज जीवनसाथी-कुंडली से जाने पत्नी या पति का चरित्र cheating husband or wife by horoscope

धोखेबाज जीवनसाथी-कुंडली से जाने पत्नी या पति का चरित्र cheating husband or wife by horoscope

ज्योतिष
धोखेबाज जीवनसाथी-कुंडली से जाने पत्नी या पति का चरित्र cheating husband or wife by horoscope धोखेबाज जीवनसाथी की कल्पना मात्र से हमारा जीवन निराशा से भर जाता है, पति पत्नी का संबंध 7 जन्मो का माना गया है , लेकिन जब आपके जीवन में ऐसा व्यक्ति आ जाता है जिसके अनैतिक संबंध हों तो हम सभी टूट से जाते हैं विश्वास के आधार पर ही कोई भी संबंध चलता है, वो संबंध चाहे पति पत्नी का हो या मित्रता का, जहाँ विश्वास समाप्त हो जाता है वहां संबंध भी समाप्त ही हो जाता है और यदि चलता भी है तो वो मात्र एक विवशता होती है। हमारे जन्म के बाद विवाह जीवन की दूसरी सबसे बड़ी घटना मानी गयी है। विवाह के बाद जीवन में सब कुछ परिवर्तित जाता है। चाहे वह पुरुष हो या महिला सभी यही चाहते है कि अपने जीवनसाथी का चरित्र बहुत अच्छा चाहता है। अनेक बार ऐसा देखने को मिलता  है कि लोग बहुत ही सोच विचार के विवाह करते हैं लेकिन ...
Saturn Transit 2022: 12 जुलाई को वक्री अवस्था में शनि मकर राशि में-किसको लाभ और किसको हानि

Saturn Transit 2022: 12 जुलाई को वक्री अवस्था में शनि मकर राशि में-किसको लाभ और किसको हानि

trending google, ज्योतिष
Saturn Transit 2022: 12 जुलाई को वक्री अवस्था में शनि मकर राशि में-किसको लाभ और किसको हानि Saturn Transit 2022: मित्रों 12 जुलाई को वक्री अवस्था में शनि मकर राशि में आ रहे है , शनिदेव के मकर राशि में आने पर किसको लाभ और किसको हानि  होगी ये विस्तार से जानने के लिए आइये पढ़ते है ये पोस्ट - हम सब सभी ग्रहों में सबसे धीमी गति से चलने वाले ग्रह शनि माने गए इस कारण से एक राशि में इनका प्रभाव लंबे समय तक रहता है। शनि प्रति ढाई वर्ष में एक राशि से निकलकर दूसरी राशि में जाते हैं। इस प्रकार किसी एक राशि में पुनः आने के लिए लगभग 30 वर्षों का समय लगता है। शनि अपने गोचर में कभी कभी वक्री हो जाते हैं यानि उल्टी चाल चलने लगते हैं , एक वर्ष में एक बार ये स्थिति अवश्य बनती है। हम सब जानते हैं कि 29 अप्रैल को शनि मकर राशि से निकलकर कुंभ में आये थे और उसके बाद 5 जून को वक्री हो गए और अब 12 जुलाई को लौट...
error: Content is protected !!