उत्तर भारत के तीर्थ

गंगोत्री(Gangotri)-a 2 z important facts of devine holy place

Gangotri श्री गंगा स्तोत्र हिंदी में अर्थ सहित | Ganga Stotram lyrics in Hindi & Sanskrit

पौराणिक हिन्दू धर्म ग्रंथों के अनुसार भगवान राम के पूर्वज रघुवंश कुल के चक्रवर्ती राजा भगीरथ ने भागीरथी शिलाखंड पर बैठकर अपने पूर्वजो को कपिल मुनि के श्राप से मुक्ति दिलाने के लिए अत्यधिक कठिन तपस्या की जिससे माँ गंगा पृथ्वी पर अवतरित हुई

ओंकारेश्वर मन्दिर omkareshwar jyotirlinga A 2 Z Complete & Easy Guide

ओंकारेश्वर मन्दिर omkareshwar jyotirlinga

मध्य प्रदेश के इंदौर नगर के निकट (लगभग 77 किमी दूर ) और नर्मदा नदी के किनारे विराजित है प्रभु ओंकारेश्वर | 12 ज्योतिलिंगो में प्रभु ओंकारेश्वर का स्थान चौथा आता है |

बद्रीनाथ (badrinath dham) 1 of the char dham yatra A 2 Z Complete & Easy Guide

बद्रीनाथ badrinath dham char dham

बद्रीनाथ मन्दिर की प्राचीनता इसी से पता चलती है कि बद्रीनाथ मंदिर का उल्लेख विष्णु पुराण, महाभारत तथा स्कन्द पुराण समेत कई प्राचीन ग्रन्थों में मिलता है और प्रभु बद्रीनाथ तीर्थ के बारे में ये कहा गया है कि स्वर्ग, पृथ्वी तथा नर्क तीनों ही स्थान में चाहे कितने ही तीर्थ हो किन्तु बद्रीनाथ जैसा तीर्थ न कभी था, न है और न ही कभी होगा।

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग Kedarnath temple-Kedarnath jyotirlinga A 2 Z Complete & Easy Guide

kedarnath jyotirlinga kedarnath temple

उत्तराखंड राज्य के रूद्रप्रयाग जिले में हिमालय में केदार पर्वत पर विराजित है प्रभु केदारनाथ,जोकि हिन्दू धर्म के 12 ज्योतिर्लिंगों और चारों धाम में से भी एक है

काशी विश्वनाथ मंदिर 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है – Kashi Vishvanath A Great Hindu Temple -Varanasi

काशी विश्वनाथ मंदिर 12 ज्योतिर्लिंगों Kashi Vishvanath

एक ऐसा तीर्थ , एक ऐसा मंदिर जिसके नाम में ही उसका अर्थ छुपा है | जी हाँ , काशी विश्वनाथ पुरे संसार के नाथ है पुरे विश्व के स्वामी है| वाराणसी में माँ गंगा के किनारे स्थित इस मंदिर में विराजित प्रभु भोलेनाथ के दर्शन करने पुरे विश्व से लोग आते है…

महाकालेश्वर मंदिर- mahakaleshwar jyotirlinga A 2 Z Complete & Easy Guide

mahakaleshwar jyotirlinga

महाकालेश्वर मंदिर  mahakaleshwar jyotirlinga भारत के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है। प्राचीन काल में इस स्थान को ही उज्जयिनी कहा जाता था | उज्जयिनिं नगर अवन्ती राज्य की राजधानी था । ऐसा माना जाता है की ये स्थान संसार का आरम्भ स्थलहै…

error: Content is protected !!