Shadow

Kaal Bhairav Jayanti 2023: शत्रु बाधा और सभी दुखों से छुटकारे के लिए 5 दिसंबर काल भैरव जयंती 2023 के दिन इन मंत्रों से करें भैरवनाथ की पूजा

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

Kaal Bhairav Jayanti 2023: शत्रु बाधा और सभी दुखों से छुटकारे के लिए 5 दिसंबर काल भैरव जयंती 2023 के दिन इन मंत्रों से करें भैरवनाथ की पूजा

Kaal Bhairav Jayanti 2023: 5 दिसंबर को मार्गशीर्ष माह मे कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को काल भैरव जयंती 2023 मनाई जाएगी काल भैरव जयंती, मान्यता है कि इस दिन काल भैरव भगवान का अवतरण हुआ था. काल भैरव भगवान को भगवान शिव का रौद्र रुप माना गया है,

ऐसा माना जाता है कि कालाष्टमी या काल भैरव जयंती पर काल भैरव की पूजा करने से हमारे जीवन के सभी दुख दूर हो जाते हैं , सभी संकट और मृत्यु तुल्य कष्ट दूर हो जाते हैं

जीवन में सुख-समृद्धि और शांति के लिए कालाष्टमी की पूजा और व्रत का अत्यधिक महत्व है. कालाष्टमी के दिन भगवान शिव का रौद्र रुप माने गए काल भैरव भगवान की विधि विधान से पुराने समय से पूजा करने की परंपरा रही है

Kaal Bhairav Jayanti 2023-काल भैरव जयंती 2023

आइए जानते है कैसे मनाए काल भैरव जयंती 2023 (Kaal Bhairav Jayanti 2023)

काल भैरव जयंती का महत्व ?

भगवान कालभैरव अपने भक्तों की काल और भय से रक्षा करते हैं. शिव भक्तों के लिए काल भैरव जयंती बहुत महत्वपूर्ण मानी जाती है, ऐसी माना गया है कि काल भैरव की पूजा करने से सभी प्रकार के शारीरिक रोग और दुख दूर हो जाते हैं , मृत्यु का भय नहीं रहता है.(काल भैरव जयंती 2023)

काल भैरव जयंती 2023 का शुभ मुहूर्त

(Kaal Bhairav Jayanti 2023 shubh muhrat  )

काल भैरव जयंती कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को पड़ती है इसलिए काल भैरव जयंती को कालाष्टमी भी कहा जाता है. इस वर्ष अष्टमी तिथि 4 दिसंबर 2023 को 9 बजकर 59 मिनट से आरंभ हो दूसरे दिन यानि 5 दिसंबर की रात्रि 12 बजकर 37 मिनट पर समाप्त हो जाएगी

ये भी पढे :- भैरव सिद्धि के शाबर मंत्र Bhairav Siddhi ke Shabar Mantra for bhairav siddhi

काल भैरव जयंती 2023 – कालाष्टमी 2023 की पूजा विधि

(Kaal Bhairav Jayanti 2023 pooja vidhi )

काल भैरव जयंती (Kaal Bhairav Jayanti 2023) के दिन प्रातः उठकर स्नानआदि कर स्वच्छ वस्त्र पहन मंदिर मे जाकर काल भैरव के चित्र या मूर्ति के सामने या घर पर होने पर मन ही मन उनका ध्यान कर सीधे हाथ मे गंगाजल लेकर व्रत करने का संकल्प लें.

काल भैरव के सामने दीपक जला कर धूप , कपूर आदि जलाकर उन्हे बेलपत्र, पंचामृत, धतूरा, पुष्प, पान, उड़द, नारियल और कुछ मिष्ठान जैसे इमरती, जलेबी आदि आर्पित करें उसके बाद काल भैरव के मंत्रों का जाप करें , इसके बाद श्री भैरव चालीसा का पाठ करें और पूजा के अंत में आरती करें ,

संध्या काल पुनः स्नान कर या अपने ऊपर गंगाजल की बूंदे डालकर उनकी पूजा, आरती करें , संभव हो तो पुनः मंत्रों का जाप करें और उसके बाद फलाहार ग्रहण करें. मान्यता है कि भगवान काल भैरव की पूजा रात में अवश्य करनी चाहिए इसलिए संध्या के बाद पूजन अवश्य करें .

दूसरे दिन व्रत का पारण कर , निर्धन लोगों को दान दक्षिणा दें. भगवान काल भैरव का वाहन कुत्ता होता है इसलिए इस दिन यानि काल भैरव जयंती 2023 (Kaal Bhairav Jayanti 2023) के दिन भगवान भैरव की पूजा करने के बाद कुत्तों को भोजन अवश्य कराना चाहिए

ये भी पढे :- काल भैरव चालीसा Bhairav Chalisa in Hindi & English

काल भैरव के सिद्ध मंत्र (काल भैरव जयंती 2023 के दिन करें जाप )

1. ॐ तीखदन्त महाकाय कल्पान्तदोहनम्। भैरवाय नमस्तुभ्यं अनुज्ञां दातुर्माहिसि

काल भैरव जयंती के दिन इस मंत्र का जाप करने से उन्नति में बाधा दूर होती है , शत्रु या विरोधी कार्य के बीच बाढ़ नहीं पहुँच पाते हैं यानि विरोधी शांत होंते हैं

2. ऊं कालभैरवाय नम

इस मंत्र का 108 बार जाप करणे से घर की दुख, दरिद्रता दूर होती है और गृहस्थ जीवन मे सुख-समृद्धि और घर की शांति के लिए शिवलिंग पर जल चढ़ा , काल भैरव  का स्मरण कर इस मंत्र का जाप कर सकते हैं

3. ओम भयहरणं च भैरव

इस मंत्र का जाप करने से घर की नकारात्मक ऊर्जा का नाश होता है. बुरी शक्तियां घर में प्रवेश नहीं करती. परिवार में क्लेश नहीं होते हैं और डर समाप्त होता है.

4. ॐ ब्रह्म काल भैरवाय फट

काल भैरव जयंती पर इस मंत्र का न्यूनतम 108 बार यानि एक माला जाप करें , इससे कलेश , संपत्ति विवाद , परिवारिक या सामाजिक विवाद के कारण कोर्ट कचेहरी से बचाव होता है , न्यायालय के चक्कर नहीं लगाने पड़ते हैं

5. ॐ ह्रीं बं बटुकाय मम आपत्ति उद्धारणाय। कुरु कुरु बटुकाय बं ह्रीं ॐ फट स्वाहा

काल भैरव के बाल स्वरूप बटुक भैरव नाथ की पूजा करने और इस मंत्र का जाप करने से ग्रह दोष शांत होते हैं , शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या के नकरात्मक प्रभाव से रक्षा होती है

Remark :

साथियों हमें आशा है कि आपको ये पोस्ट  ” Kaal Bhairav Jayanti 2023: शत्रु बाधा और सभी दुखों से छुटकारे के लिए 5 दिसंबर काल भैरव जयंती 2023 के दिन इन मंत्रों से करें भैरवनाथ की पूजा ” पसंद आई होगी , यदि हाँ तो इसे अपने जानने वालों में share करें। , कुंडली विश्लेषण के लिए हमारे WhatsApp number 8533087800 पर संपर्क कर सकते हैं

अब यदि कोई ग्रह ख़राब फल दे रहा हो , कुपित हो या निर्बल हो तो उस ग्रह के मंत्रों का जाप , रत्न आदि धारण करने चाहिए ,

इसके साथ ही आप ग्रह शांति जाप ,पूजा , रत्न  परामर्श और रत्न खरीदने के लिए अथवा कुंडली के विभिन्न दोषों जैसे मंगली दोष , पित्रदोष आदि की पूजा और निवारण उपाय जानने के लिए भी संपर्क कर सकते हैं

अपना ज्योतिषीय ज्ञान वर्धन के लिए हमारे facebook ज्योतिष ग्रुप के साथ जुड़े , नीचे दिए link पर click करें

श्री गणेश ज्योतिष समाधान 

Brahmamuhurta ब्रह्ममुहूर्त किसे कहते हैं

ये भी पढ़े : स्त्री की कुंडली में चंद्रमा का प्रभाव stri ki kundli me chandrama-13 moon effects in female horoscope

ये भी पढ़े :ज्योतिष के अनुसार शिक्षा -9 ग्रहों के अनुसार शिक्षा (education in astrology – education as per planets)

ये भी पढे : shani ki drishti : कहीं आप पर भी तो नहीं है शनि की दृष्टि, जाने शनि की दृष्टी जब शिव पर पड़ी तो क्या हुआ ?

(काल भैरव जयंती 2023)

Scrub India 

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...
error: Content is protected !!