simsa mata mandir

simsa mata mandir a 2 z ||माता सिमसा मंदिर- जहाँ मिलती है संतान

माता सिमसा अपने भक्तों को स्वप्न में आकर संतान होने के संबंध में संकेत देकर उनकी निराशा को आशा में बदल देती है…

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

simsa mata mandir||माता सिमसा मंदिर- जहाँ मिलती है संतान

भारत के उत्तर में स्थित हिमाचल प्रदेश राज्य के मंडी जनपद में तहसील लड़भडोल में लड़भडोल से लगभग 9 km दूर सिमस नाम का एक गांव है जहाँ माता रानी अपने निराश निसंतान भक्तों को संतान सुख प्रदान करती है | ये मंदिर सिमस नाम के गाँव में होने से इस मंदिर में विराजित माँ शारदा को माता सिमसा के रूप में जाना जाता है |

जी हाँ ,ज्ञान की देवी सरस्वती यानि शारदा माता पिंडी के रूप इस मंदिर में विराजित है ,जहाँ दूर दूर से चैत्र और शरद नवरात्री के दिनों में  शारदा माता के पास वो निराश भक्त आते है जिन्हें अनेकों प्रयास के बाद भी संतान प्राप्त नही होती है और अंतिम आस लिए माता सिमसा से संतान प्राप्ति का आशीर्वाद मांगते है और माता सिमसा भी अपने भक्तों को स्वप्न में आकर संतान होने के संबंध में संकेत देकर उनकी निराशा को आशा में बदल देती है |

यहाँ निसंतान महिला अकेले भी आ सकती हैं और अपने पति के साथ भी लेकिन मंदिर के भीतर फर्श पर उन्हें अकेले ही सोना पड़ता है , मंदिर आने वाली निसंतान महिला को अपने घर से एक लोटा,एक दरी, दो कम्बल और एक लाल रंग का पेटीकोट या घाघरा लाना होता है जबकि साथ आए हुए अन्य परिवारीजनों को मंदिर कमेटी की ओर से ही खाने पीने और रहने की व्यवस्था की जाती है |

चैत्र नवरात्री में मौसम सामान्य होता है किन्तु शरद नवरात्री में मौसम थोडा ठंडा होता है इसलिए शरद नवरात्री के दिनों में यहाँ गर्म कपड़ों के साथ ही आना चाहिए |

simsa mata mandir||संतान प्राप्ति के लिए क्या करें

माता सिमसा से संतान प्राप्ति का आशीर्वाद लेना बहुत ही सरल है | माता सिमसा के मंदिर में आकर निसंतान महिला को वाली मंदिर के फर्श पर सोने से संतान की प्राप्ति होती है |

जिन निसंतान महिलाओं को माता सिमसा के आशीर्वाद से संतान सुख मिला है उनका कहना है कि मंदिर के फर्श पर श्रद्धा और विश्वास के साथ दिन रात सोने पर माता सिमसा उनके स्वप्न में मानव रूप में या प्रतीक रूप में दर्शन देती है और स्वप्न में संकेत देकर संतान सुख के विषय में बता देती है जैसे :-

simsa mata mandir माता सिमसा बताती है – संतान होगी या नही

यदि निसंतान महिला को स्वप्न में कोई फल या कंद-मूल प्राप्त होता है तो उस महिला को संतान सुख मिल जाता है।

यदि निसंतान महिला को स्वप्न में पत्थर, धातु या लकड़ी दिखाई देती है तो उस महिला के भाग्य में संतान सुख नही होता है।

यहाँ आने वाले भक्तों के अनुसार माता सिमसा यदि किसी महिला को निसंतान रहने का संकेत दे दें और तब भी यदि महिला मंदिर से ना जाएँ तो उस महिला के शरीर में खुजली भरे लाल-लाल दाग ( चकते ) निकल आतें हैं और उस तब उस महिला को माता सिमसा के मंदिर से जाना ही पड़ता है।

अनेक बार ऐसा भी होता है कि निसंतान महिला को कोई स्वप्न नही आता है , ऐसे में महिलाएं पुनः प्रयास भी करती हैं।

संतान के लिंग-निर्धारण का भी संकेत

  • यदि माता सिमसा किसी निसंतान महिला को अमरूद के फल का संकेत देती है तो समझ लें कि लड़का होगा
  • यदि स्वप्न में भिन्डी मिलती है तो कन्या संतान की प्राप्ति होती है ।

सलिन्दरा उत्सव या सेलिंद्रा उत्सव

माता सिमसा मंदिर में नवरात्रि के दिनों में संतान प्राप्‍ति के लिए में विशेष आयोजन होता है जिसे स्थानीय भाषा में “सलिन्दरा” कहा जाता है,सलिन्दरा यानि स्वप्न ।

सलिन्दरा उत्सव में आसपास के अनेक राज्यों से निसंतान महिलाएं माता सिमसा के आशीर्वाद से संतान सुख की कामना से यहाँ आती है और जब उन्हें संतान प्राप्त हो जाती है तो माता के मंदिर में आकर माता सिमसा का आभार प्रकट करते हैं ।

सिमसा माता का मंदिर बहुत ही प्राचीन है और यहाँ निसंतान महिलाएं लगभग 400 वर्ष से आ रही है और माता सिमसा के आशीर्वाद से संतान सुख प्राप्त कर रही है |

ये भी पढ़े : संकट मोचन मंदिर वाराणसी-हनुमान जी का सिद्ध मंदिर

simsa mata mandir

कैसे पहुंचे माता सिमसा मंदिर

How to reach simsa mata mandir

वायुयान से माता सिमसा मंदिर कैसे जाएँ || how to reach simsa mata mandir by flight

माता सिमसा मंदिर का निकटतम airport , Kullu–Manali ( कुल्लू – मनाली ) Airport (IATA: KUU, ICAO: VIBR) है ,चूँकि ये भुन्तर नामक स्थान पर स्थित है इसलिए इसे bhuntar ( भुन्तर ) airport के नाम से भी जाना जाता है  ये airport कुल्लू ( kullu) से 11 km और मनाली ( manali ) से 52 km दूर स्थित है |

रेल से माता सिमसा मंदिर कैसे जाएँ || how to reach simsa mata mandir by train

माता सिमसा मंदिर का निकटतम रेलवे स्टेशन पठानकोट रेलवे स्टेशन ( पंजाब ) है | पठानकोट रेलवे स्टेशन (Pathankot Junction (station code: PTK) पर उतरकर आपको बैजनाथ आना होगा जोकि पठानकोट से लगभग 130 km दूरी पर स्थित है और बैजनाथ से लगभग 32 km की दूरी  पर माता सिमसा मंदिर स्थित है |  

सड़कमार्ग से माता सिमसा मंदिर कैसे जाएँ || how to reach simsa mata mandir by road

सड़कमार्ग से माता सिमसा मंदिर पहुँचने के लिए सबसे पहले हमें बैजनाथ जाना होगा जहाँ से माता सिमसा मंदिर मात्र लगभग 32 km दूर है | बैजनाथ ,नई दिल्ली से 550 km और चंडीगढ़ से 350 km और पठानकोट से 130 km की दूरी पर स्थित है |

बैजनाथ आने के बाद प्राइवेट टैक्सी या local बस से हम माता सिमसा मंदिर बहुत ही सुगमता से पहुँच सकते है |

Remark : संतान प्राप्ति हेतु यहाँ आने के लिए नवरात्री के दिन सबसे उपयुक्त माने जाते है , नवरात्री में खाने , पीने और रहने की व्यवस्था निशुल्क रहती है |

ये भी पढ़े : Vrindavan a 2 z||वृंदावन धाम-प्रभु श्री कृष्ण की नगरी

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!