भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग bhimashankar jyotirlinga 1 of 12 jyotirlinga – An Almighty Power

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग ( bhimashankar jyotirlinga )
अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग bhimashankar jyotirlinga 1 of 12 jyotirlinga – An Almighty Power

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग (bhimashankar jyotirlinga)  

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग ( bhimashankar jyotirlinga )का 12 ज्योतिर्लिंगों में छठा स्थान है |महाराष्ट्र राज्य के पुणे नगर से लगभग 100 किलोमीटर दूर उत्तर पश्चिम में स्थित सह्याद्रि नाम के पर्वत पर भीमा नदी के किनारे विराजित है प्रभु भीमाशंकर है।  ये भीमा नदी आगे जाकर कृष्णा नदी में जाकर मिल जाती है| प्रभु भीमाशंकर का वर्णन शिवपुराण में भी मिलता है | भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग ( bhimashankar jyotirlinga ) के विषय में आइये जानते हैं विस्तार से …

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग ( bhimashankar jyotirlinga )

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग की कहानी (bhimashankar jyotirlinga story )  

कहा जाता है कि त्रेता में रावण के भाई कुंभकर्ण का पुत्र भीम नाम का एक राक्षस था। कुम्भकरण की मृ्त्यु ठीक बाद उसका जन्म हुआ था। भीमा को अपने पिता कुम्भकरण की मृ्त्यु भगवान राम के हाथों हो चुकी है ,ये पता ही नही था |

जब भीमा को ये बात पता चली तो वो भगवन राम का वध करने के लिए व्याकुल हो उठा और इसके लिए भीमा ने अनेक वर्षों घोर तपस्या की जिससे प्रसन्न होकर ब्रह्मा जी ने विजयी होने का वरदान दिया और इस वरदान को पाकर  राक्षस भीमा निरंकुश हो गया और मनुष्यों के साथ साथ देवी देवतायों पर भी अत्याचार करने लगा , सभी उससे भयभीत रहने लगे | सभी जीव त्राहिमाम करने लगे और अंततः शिव जी की शरण  गए |

 

shiv ji

प्रभु शिव ने सभी को भीमा के अत्याचारों से मुक्त कराने का वचन दिया और इसके बाद एक युद्ध में शिव जी ने राक्षस भीमा का वध कर दिया |जिस स्थान पर भीमका वध हुआ उसी स्थान पर सभी ने प्रभु शिव से शिवलिंग के रूप में प्रकट होने के लिए प्रार्थना की| प्रार्थना स्वीकार करते हुए शिव जी भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग के रूप में प्रकट हुए|

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग ( bhimashankar jyotirlinga ) बहुत मोटे है इसीलिए इन्हें मोटेश्वर महादेव भी बोला जाता है|

bheemashankar

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग जैसे ही भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग ( bhimashankar jyotirlinga ) के बारे में अनेक लोगो के अनेक मत है जैसे अनेक विद्वानों के अनुसार भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग असम में गुवाहाटी के निकट विराजित है क्यूंकि असम को ही पुराने समय में कामरूप के नाम से जाना जाता था और शिवपुराण में (अध्याय20 में श्लोक 1 से 20 तक और अध्याय 21में श्लोक 1 से 54 तक भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग ( bhimashankar jyotirlinga ) के प्रकट होने की पूरी कथा है

जिसके अनुसार भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग ( bhimashankar jyotirlinga ) कामरूप राज्य के पर्वतों के बीच स्थापित हैं और जिस प्रकार के स्थान का वर्णन पुराणों में मिलता है असम की गुवाहाटी में पहाड़ों पर स्थित ये स्थान भी वैसा ही है |

bhimashankar asam

भीमा शंकर असम / bhimashankar jyotirlinga assam

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग-bhimashankar jyotirlinga  के महाराष्ट्र में होने का वहां कोई उल्लेख नहीं है। गुवाहाटी की पहाड़‌ियों में जहां भीमाशंकर स्‍थ‌ित है वहां चौबीसों घंटे वहां उनका जल से अभिषेक होता रहता है। वर्षा ऋतु में तो ये ज्योतिलिंग पूरी तरह से नदी में डुब जाते है और उनकी सेवा में लगे पुजारी भी यहाँ के स्थानीय  जनजातीय हैं। जोकि अनेक वर्षों से प्रभु की सेवा में लगे हैं |

bhimashankar jyotirling darshan timming 

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र के दर्शन का समय

ये मंदिर प्रतिदिन प्रातः 5 बजे से रात्रि के 9:30 तक घंटे खुला रहता है | 

*************

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग ( bhimashankar jyotirlinga )

Best Time to Visit Bhimashankar Temple Varanasi

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र जाने का सबसे अच्छा समय

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग के दर्शन के लिए आप जब मन करें तब जा सकते है वैसे अगस्त से फरवरी माह तक का समय यहाँ जाने के लिए सबसे अच्छा समय माना जाता है | 

*************

ये भी पढे : रामेश्वरम-प्रभु राम द्वारा स्थापित rameshwaram jyotirlinga know about a2z

How to reach Bhimashankar Temple

कैसे पहुंचे भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र 

भीमाशंकर महाराष्ट्र राज्य के प्रमुख जनपद पुणे में स्थित है | महाराष्ट्र स्टेट हाईवे MH SH 54 और राष्ट्रीय राजमार्ग NH60 के द्वारा भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग और पुणे की बीच की दूरी 109.0 km की है | पुणे जनपद देश के प्रमुख नगरों से वायुमार्ग , रेलमार्ग  और सड़कमार्ग से भलीभांति जुड़ा हुआ है|

How to reach Bhimashankar Temple by flight

वायुमार्ग से कैसे पहुचे भीमाशंकर महाराष्ट्र

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग से निकटतम हवाई अड्डा Pune Airport, (IATA: PNQ, ICAO: VAPO) ( पुणे हवाई अड्डा ) है जोकि एक अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा है |

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग-bhimashankar jyotirlinga   से Pune Airport, (IATA: PNQ, ICAO: VAPO)  की दूरी लगभग 105.1 km है | देश के अन्य प्रमुख नगरों से पुणे इंटरनेशनल airport के लिए नियमित उड़ानें हैं।  

Pune Airport, (IATA: PNQ, ICAO: VAPO) भारत के सभी प्रमुख नगरों जैसे दिल्ली, मुंबई,इंदौर,बंगलुरु,कोच्ची,हैदराबाद आदि से भलीभांति जुड़ा हुआ है जहाँ Air India, Air India Express, Jet Airways, Indigo ,Go Air, and Kingfisher जैसी विमानन companies की flights यहाँ नियमित आती हैं

How to reach Bhimashankar Temple by train

रेलमार्ग से कैसे पहुचे भीमाशंकर महाराष्ट्र

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग के निकट कोई रेलवे स्टेशन नही है | भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग train से जाने के लिए सबसे पहले पुणे जंक्शन रेलवे स्टेशन जाना होता है जोकि  भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग-bhimashankar jyotirlinga   से लगभग 111 km दूर है | पुणे रेलवे स्टेशन ( pune railway station code – PUNE ) पर 6 platform है और ये central railway zone में आता है |

पुणे जंक्शन रेलवे स्टेशन (PUNE) पर देश के अनेक प्रमुख नगरों से train आती है जैसे मैसूर,चेन्नई,पुरी,जयपुर,नई दिल्ली,लखनऊ जैसे नगरों से ये अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है | भीमाशंकर ज्योतिर्लंग train से जाने के लिए सबसे अच्छा है कि आप पुणे जंक्शन रेलव स्टेशन (pune junction railway station code – PUNE ) पर उतरें और सड़कमार्ग से भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग जाएँ |

विभिन्न ट्रेनों का शुल्क और सीट उपलब्द्धता जाने के लिए यहाँ click करे  IRCTC 

How to reach Bhimashankar Temple by road 

सड़कमार्ग से कैसे पहुचे भीमाशंकर महाराष्ट्र

आप देश के सभी प्रमुख नगरों से भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग जाने के लिए सुगमता से नियमित सरकारी जैसे महाराष्ट्र राज्य सड़क परिवहन निगम (MSRTC) और प्राइवेट बसें , टैक्सी या अपने निजी वहां से जा सकते हैं।

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग से सालगांव 42 km , भोरवाड़ी 61 km, पेठ 63 km, राजुर 67 km, उचिल 68 km, जुन्नार 69 km, तिलवाड़ी 90 km, कासगांव 131 km, मुरबद से 150 km की दूरी पर स्थित है |

Remark : यदि भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग-bhimashankar jyotirlinga   के बारे में आपके पास कुछ और भी जानकारी है जिसका लाभ तीर्थयात्रियों को मिल सकता है तो आप हमे निसंकोच वो जानकारी नीचे comment box के द्वारा दें | 

ये भी पढे : काशी विश्वनाथ- Kashi Vishvanath A Great Hindu Temple -Varanasi

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!