Thursday, August 18
Shadow

Success Story in hindi

कैसे 7 महिलाओं ने 50 पैसे को 1600 करोड़ बनाया- पदमश्री जसवंती बेन पोपट inspirational success story of lijjat papad

कैसे 7 महिलाओं ने 50 पैसे को 1600 करोड़ बनाया- पदमश्री जसवंती बेन पोपट inspirational success story of lijjat papad

Success Story in hindi, hindi stories
कैसे 7 महिलाओं ने 50 पैसे को 1600 करोड़ बनाया- पदमश्री जसवंती बेन पोपट inspirational success story of lijjat papad मुंबई महानगर में 15 मार्च 1959 के दिन जसवंती बेन पोपट ने अपनी 6 सहेलियों के साथ एक पापड़ बनाने का बिजनेस चालू किया और पहले दिन 50 पैसे की कमाई की , आज वो 7 महिलाओं का समूह 40000 से अधिक महिलाओं का समूह बन चूका है और पापड़ की कमाई 50 पैसे से बढ़कर 1600 करोड हो गयी है। आइये जानते हैं ये चमत्कार कैसे हुआ जसवंती बेन की संघर्ष की कहानी Story of struggle of Jaswanti Ben मुंबई के गिरगांव क्षेत्र के लोहाना निवास में रहने वाली जसवंती बेन पोपट जमनादास पोपट एक निर्धन परिवार से थी और निर्धनता के कारण घर चलाना बहुत कठिन हो गया था , जसवंती बेन पोपट की शिक्षा प्राइमरी क्लास तक हुई थी इसलिए अच्छी नौकरी भी नही मिल सकती थी घर में इतने पैसे भी नही थे कि कोई व्यापार करे , जसवंती बेन भले ही ...
कभी साइकिल से बेचा वाशिंग पाउडर-आज 600 मिलियन डालर से अधिक के स्वामी-करसनभाई पटेल Success story of Karsanbhai Patel

कभी साइकिल से बेचा वाशिंग पाउडर-आज 600 मिलियन डालर से अधिक के स्वामी-करसनभाई पटेल Success story of Karsanbhai Patel

hindi stories, Success Story in hindi
कभी साइकिल से बेचा वाशिंग पाउडर-आज 600 मिलियन डालर से अधिक के स्वामी-करसनभाई पटेल Success story of Karsanbhai Patel Karsanbhai Patel करसनभाई पटेल :  वाशिंग पाउडर लेकर जिसे किसी व्यक्ति ने कभी साइकिल पर घूम-घूम कर बेचा था - वो वाशिंग पाउडर आज 600 मिलियन डालर से भी अधिक का एक बहुराष्ट्रीय कंपनी है । साथियों आज निरमा समूह निरमा ब्यूटी शॉप ,प्रीमियम पाउडर,सुपर निरमा वाशिंग पाउडर,निरमा शैंपू ,टूथपेस्ट,शुद्ध नाम का नमक,सोडा ऐश जैसे अनेकों उत्पाद विक्रय करने वाली एक बहुराष्ट्रीय कंपनी है जिसके उत्पाद भारत के गाँव देहात से लेकर महानगरों तक में बिकते है , निरमा आज भारत के साथ साथ अनेक देशों में बिकता है और ये एक ऐसा उत्पाद है जो यूनीलीवर ( पूर्व का हिन्दुस्तान लीवर )  लिमिटेड जैसे बहुराष्ट्रीय उत्पादों को टक्कर दे रहा है , आइये जानते है कैसे निरमा एक बीज से विशाल वृक्ष बन सका मित्रो वो व्...
कैसे एक कारपेंटर 350 करोड़ की सम्पति का स्वामी है,Rajnikanth Success story in Hindi

कैसे एक कारपेंटर 350 करोड़ की सम्पति का स्वामी है,Rajnikanth Success story in Hindi

Success Story in hindi, trending google
कैसे एक कारपेंटर 350 करोड़ की सम्पति का स्वामी है,Rajnikant Success story in Hindi रजनीकांत का जन्म (Rajinikanth's birth) Success story in Hindi Rajnikanth Success story in Hindi : सुपर स्टार रजनीकांत का जन्म 12 दिसम्बर 1950 में कर्नाटक राज्य के बैंगलूर में हुआ था . रजनीकांत (Rajnikanth) मराठी पृष्ठभूमि वाले परिवार  से हैं , रजनीकांत की माता एक गृहणी थी  उनका नाम रामबाई था जो कि और पिता रामोजीराव गायकवाड एक पुलिस विभाग में कांस्टेबल थे . जब वो पांच वर्ष के थे तभी उनकी मां का निधन हो गया। रजनीकांत मराठी थे जिनमे महान वीर योद्धा छ्त्रपति शिवाजी के नाम बहुत आदर से लिया जाता है इसीलिए रजनीकांत का नाम मराठा योद्धा छत्रपति शिवाजी के नाम पर शिवाजी राव गायकवाड़ रखा गया था। रजनीकांत अपने चार भाई बहनों में सबसे छोटे हैं , रजनीकांत के दो बड़े भाईयों का नाम श्री सत्यनारायण राव और श्री नागेश्वर राव...
हरीश धरमदासानी,online business से earn करते हैं 3 करोड़ monthly

हरीश धरमदासानी,online business से earn करते हैं 3 करोड़ monthly

hindi stories, Success Story in hindi, trending google
हरीश धरमदासानी,online business से मिली Success 6 हज़ार की नौकरी से 3 करोड़ monthly हरीश धरमदासानी, आगरा नगर के एक अत्यधिक सफल online business man है जिन्होंने flipkart के साथ online business करते हुए मात्र 6 वर्षों में 6 हज़ार की नौकरी करने से लेकर करोड़ों के जूता व्यवसाय को सफलता पूर्वक संचालित कर रहे हैं। हरीश धरमदासानी को आज जितने लोग जानते है उससे कहीं अधिक हम सब उनकेmens  shoe ब्रांड Layasa  को जानते है जो आज के समय e-commerce business से लगभग 3 करोड़ रुपये का मासिक का राजस्व कमाता है । हम सब जानते है कि कि पिछले वर्ष कोरोना माहामारी ने अपना कैसा रूप दिखाया था , बहुत सारे लोगों की नौकरी इस व्यवसाय में ख़त्म हो गयी क्योंकि उन्हें नौकरी देने वाले बहुत सारे business इस कोरोना माहामारी के कारण ख़त्म हो गये लेकिन कोरोना काल में भी हरीश धरमदासानी और उनका ब्रांड Layasa  बहुत अधिक प्रभावित नही...
IAS Rakesh Sharma Success -Blindness को दे challenge,1st attempt में बने IAS

IAS Rakesh Sharma Success -Blindness को दे challenge,1st attempt में बने IAS

Success Story in hindi, hindi stories
IAS Success Story: नेत्रहीनता को दे चुनौती बने प्रथम प्रयास में IAS  Success Story Of IAS Rakesh Sharma who is permanently blind (Success Story Of IAS Rakesh Sharma) सभी व्यक्ति अपने जीवन में सफल होना चाहते है,सफलता पाने के लिए दिन रात एक किये रहते हैं, इनमे से कुछ अपनी परिस्थितियों से हार मान जाते है और कुछ परिस्थितियों को ही हरा देतें हैं और आगे चलकर उन्ही लोगों की success story हमे पढने को मिलती हैं और हमारी ये पोस्ट ऐसी ही एक success story है 2 वर्ष की बाल्यावस्था में ही अपनी आँखों की दृष्टि खो देने वाले IAS Rakesh Sharma ने अपने जीवन की विषम परस्थितियों को अपने आत्मविश्वास और अथक परिश्रम से हरा दिया और आज सरकारी नौकरी के लिए प्रयासरत भारत के युवाओं का सबसे बड़ा स्वप्न IAS का पद प्राप्त कर छोटी छोटी बाधाओं से निराश हो जाने वाले लोगों को ये बता दिया है कि यदि आत्मविश्वास के साथ अथक प...
दीप कालरा की सफलता deep kalra success story(2020)

दीप कालरा की सफलता deep kalra success story(2020)

hindi stories, Success Story in hindi, trending google
makemytrip के दीप कालरा को कैसे मिली सफलता  (ceo of makemytrip deep kalra success story) साथियों ये ऐसे व्यक्ति की कहानी जिससे अपने जीवन के संघर्ष से कभी हार नही मानी और आज वो भारत के एक जाने माने व्यक्तित्व है और हर उस व्यक्ति के आदर्श हैं जो अपना छोटा या बड़ा स्टार्टअप खोलने का सपना देखता है, आज की सक्सेस स्टोरी है deep kalra success story  यानि दीप कालरा की सफलता की कहानी, वो ही दीप कालरा जिन्हें पूरा संसार मेक माय ट्रिप MakeMyTrip के संस्थापक के रूप में पहचानता है  ।  साथियों आपको तत्काल कहीं जाना है तो सबसे पहले आप क्या सोचते हैं ? flight train bus या रुकने के लिए hotel, है न ? और इन सबकी व्यवस्था ऑनलाइन ही हो जाती है क्योंकि आज आपके पास technology है । आज सब कुछ इन्टरनेट के द्वारा हो रहा है,आपको देश के भीतर घूमना हो या विदेश जाना हो तो आप flight train bus या रुकने के लिए hotel की ...
कभी झूठे बर्तन धोये- sagar ratna success story A 2 Z

कभी झूठे बर्तन धोये- sagar ratna success story A 2 Z

hindi stories, Success Story in hindi
कभी झूठे बर्तन धोये- sagar ratna success story A 2 Z (sagar ratna|सागर रत्ना- जयराम बनान ) (success story of sagar ratna restaurant) जिस व्यक्ति के पास 2 वक्त का खाना खाने के भी पैसे न हो, कौन जानता था कि उसका नाम देश के अरबपतियों में गिना जायेगा | निरंतर चलने वाली नदी एक दिन सागर को रूप ले लेती है , ठीक ऐसे ही अपने बचपन में खेलने कूदने की आयु में दूसरों के झूठे बर्तन धोकर अपने लिए खाने की व्यवस्था करने वाले जयराम बानन भी आज सागर बन चुके है और आज वो chain of restaurant sagar ratna ( sagar ratna (सागर रत्न) समूह मालिक है | जी हाँ हम उसी रेस्टोरेंट sagar ratna (सागर रत्न) की बात कर रहे है जो आज 35 से भी अधिक नगरों में है, जिनमे गुडग़ांव, चंडीगढ़, मेरठ,दिल्ली, लुधियाना जैसे अनेक नगर आते है | sagar ratna (सागर रत्न) रेस्टोरेंट आज कितना बड़ा हो चुका है इसे हम इस बात से समझ सकते है कि देश की...
लता मंगेशकर:स्वर कोकिला (lata mangeshkar success story A2Z)

लता मंगेशकर:स्वर कोकिला (lata mangeshkar success story A2Z)

hindi stories, Success Story in hindi
लता मंगेशकर:स्वर कोकिला (lata mangeshkar success story A2Z) lata mangeshkar biography in hindi  लता मंगेशकर:निर्धन कन्या से सफलतम गायिका बनने की कहानी लता जी ( lata mangeshkar ) का जीवन 13 वर्ष की आयु में कन्धों पर परिवार का बोझ लेकर चलने से संसार की सफलतम गायिका बनने की यात्रा है , साथियों जीवन में कितना भी अँधेरा क्यों न हो लेकिन जिन्हें अँधेरे से लड़ना आता है ...उनकी जीत निश्चित होती है और इस बात का जीता जागता उदाहरण है लता जी का जीवन ... जी हाँ, लता जी ( lata mangeshkar ) जब मात्र 13 वर्ष की थी तभी उनके सर पर से पिता का साया हट गया और परिवार की जिम्मेदारी भी कंधो पर आ गयी लेकिन लता जी ने जीवन के संघर्ष से हार नही मानी और आज संगीत की दुनिया में उनका क्या स्थान है ये हम सब जानते है| (लता मंगेशकर का परिवार  )( lata mangeshkar Family) मित्रों लता मंगेशकर (lata mangeshkar) (जिनका पूरा...
johnny lever: कैसे एक कलम बेचने वाला अरबपति बन गया Zero 2 Hero

johnny lever: कैसे एक कलम बेचने वाला अरबपति बन गया Zero 2 Hero

hindi stories, Success Story in hindi
जॉनी लीवर को (johnny lever) कैसे एक कलम बेचने वाला अरबपति बन गया Zero 2 Hero (johnny lever biography in hindi) जॉनी लीवर मात्र एक कॉमेडियन नही बल्कि संघर्ष का दूसरा नाम है, आइये जानते है कैसे मुंबई की सड़कों पर घूम घूमकर फ़िल्मी गानों पर गाना गाते हुए कलम बेचने वाला व्यक्ति अरबपति बना | जी हाँ ,आज जिन्हें हम जॉनी लीवर के नाम से जानते है ,वो जॉनी लीवर जो हिन्दी फिल्म इंडस्ट्री का जाना माना नाम है, ने अपने जीवन का बेहद कठिन समय देखा है, जॉनी लीवर उन सभी लोगों के लिए एक उदाहरण है जो अपने जीवन के संघर्ष से डरते है, अपने जीवन के संघर्ष से दूर भागते है| आज जिन्हें हम जॉनी लीवर के नाम से जानते है , उनका असली नाम जॉन प्रकाश राव जनुमाला  है , जॉनी लीवर का जन्म आंध्र प्रदेश के प्रकाशम जनपद में 14 अगस्त 1957  को एक ईसाई परिवार में हुआ था | जॉनी लीवर के पिता का नाम प्रकाश राव जानुमाला है । जॉनी ली...
error: Content is protected !!