computer memory in hindi with easy example 1 bit byte,ZB,Yotta byte etc

computer memory
अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

computer memory in hindi with easy example 1 bit byte,ZB,Yotta byte etc

Types of Computer Memory 

Computer memory का प्रयोग data, information, intermediate result और final result को store करने के लिए होता है |

Computer memory की क्षमता को bytes, kilobytes etc में measure किया ( मापा ) जाता है computer memory कि सबसे छोटी unit ( इकाई )  bit होती है |

computer memory की क्षमता के विभिन्न स्तर इस प्रकार है :-

computer memory units 

ram

1 bit

4 bit=1 nibble

8 bit= 1 byte

……………………………….

1024 Byte = 1 KB ( kilobytes byte )

1024 KB = 1 MB ( Megabyte )

1024 MB = 1GB ( Gigabyte )

1024 GB = 1TB ( Terabyte )

1024 TB = 1 PB ( Petabyte )

1024 PB = 1 EB ( Exabyte )

1024 EB = 1 ZB ( Zetta byte )

1024 ZB = 1 YB ( Yotta byte )

1024 YB = 1 BB ( Bronto byte )

1024 BB = 1 GB ( Geop byte ) ………………………………………..

types of computer memory2

 

computer memory  की प्रकृति 2 प्रकार की होती है:-

Types of Computer Memory as per Nature 

(Nature of computer Memory)

1.Volatile memory ( वोलाटाइल मेमोरी ) 2.Non volatile memory ( नॉन वोलाटाइल मेमोरी )

1.Volatile memory ( वोलाटाइल मेमोरी )

  1. Volatile memory ( वोलाटाइल मेमोरी ):- ऐसी memory जिसमे data/information तभी तक रहती है जब तक उसे power supply ( बिजली ) मिलती रहती है | जैसे ही memory की power supply बंद होती है,इस प्रकार की memory में से सभी data erase हो जाता है यानि मिट जाता है 

Example of Volatile Memory 

Random Access Memory (RAM)

2.Non volatile memory ( नॉन वोलाटाइल मेमोरी )

  1. Non volatile memory ( नॉन वोलाटाइल मेमोरी ):- ऐसी memory जिसमे data / information बिजली न मिलने पर भी रहे | यानि इसको power supply मिले या न मिले इसमें पड़ा हुआ data हमेशा ही सुरक्षित रहता है जब तक उसे स्वंम ही delete न किया जाये 

Example of Non Volatile Memory 

Read Only Memory ( ROM ), Hard Disk Drive ( HDD),Pen Drive, memory cards etc

Types of Computer Memory as per their Work 

1. primary memory ( प्राइमरी मेमोरी ) 2. secondary memory (सेकेंडरी मेमोरी)

computer memory दो प्रकार की होती है :-

A. Primary memory ( प्राइमरी मेमोरी ):-

(primary memory of computer)

इसे main memory  या internal memory भी कहते हैं । यह CPU  से  सीधे जुड़ी हुई होती है ये secondary memory से fast लेकिन cpu register से slow होती है | 

(cpu register, cpu का part होते है लेकिन memory में count किये जाते है)

इसकी storage capacity  secondary memory से कम होती है |

primary memory 2 प्रकार की होती है |

    1. Random Access Memory (RAM )   2. Read Only Memory (ROM)

Random Access Memory (RAM)

इसे Random Access Memory इसलिए कहा जाता है क्योंकि इसके किसी भी भाग में यानि हिस्से में पहुंचने में बराबर समय लगता है | इसमें read और write दोनों ही operation होते हैं |

यह Volatile memory होती है यानी इसमें data और information तभी तक रहती है जब तक इसे power supply मिलती रहती है |

Read Only Memory (ROM)

इस ROM इसलिए कहते हैं क्योंकि इसमें केवल read , operation ही होता है । ROM में पड़ा हुआ data इसे बनाए जाने के समय डाला जाता है | ROM में वह जरूरी instruction होते हैं जिसकी आवश्यकता computer को कभी भी पड़ सकती है | ये non-volatile memory  होती है यानि बिजली न मिलने पर भी data/information नष्ट नही होती है| ROM कई प्रकार के होते हैं जैसे:-

  1. READ ONLY MEMORY ( ROM )
  2. PROGRAMMABLE READ ONLY MEMORY (PROM)
  3. ERASABLE PROGRAMMABLE READ ONLY MEMORY (EPROM)
  4. ELECTRICALLY ERASABLE PROGRAMMABLE READ ONLY MEMORY (EEPROM)

B. Secondary memory ( सेकेंडरी मेमोरी ) :-

secondary memory ,non – volatile memory होती है, इसकी speed सबसे कम लेकिन storage capacity सबसे ज्यादा होती है |

भविष्य में प्रयोग में आने वाले सभी data/instruction को secondary memory में ही रखा जाता है

      जैसे : hard disk drive (HDD),Pen drive , memory cards etc

types of computer memory

difference between internal memory and external memory

Computer memory को 2 प्रकार से वर्गीकृत किया जाता है

internal memory

external memory

Internal memory

Internal memory  को ही हम “main या primary memory” कहते हैं , प्राइमरी मेमोरी वो मेमोरी होती है जिसके बिना कोई भी computer काम नहीं कर सकता है ,प्राइमरी मेमोरी मे RAM और ROM दोनों ही प्रकार की मेमोरी आती  ,

इस मेमोरी मे External memory की तुलना मे कम मात्रा में data store होता है 

External memory

External memory को “secondary memory” भी कहा जाता है, इस प्रकार की मेमोरी embedded या removable दोनों ही प्रकार की हो सकती हैं जैसे

Examples hard disk drive (HDD) या solid state drive ( SSD ) , USB flash drives, compact discs etc 

How many Types of RAM in hindi

(RAM कितने प्रकार की होती है )

RAM मुख्य रूप से दो प्रकार की होती है 

  1. SRAM
  2. DRAM

SRAM क्या होती है 

(What is SRAM in hindi )

SRAM चार से छह ट्रांजिस्टर से बना होता है। इसे निरंतर power की आवश्यकता पड़ती है और इसमे data रखने के लिए इसे DRAM जैसे समय समय पर refresh नही करना पड़ता है

SRAM की स्पीड DRAM से बहुत अधिक होती है और साथ ही ये DRAM से महंगी भी होती है 

इसे computer मे cpu internal registers और cache memory के रूप मे प्रयोग किया जाता है 

SRAM मे प्रत्येक memory cell मे बहुत सारें transistors होते है किन्तु प्रत्येक cell मे capacitor नहीं होते हैं

Storage capacity of SRAM

1MB से 16MB.

SRAM कितने प्रकार की होती है | Types of SRAM in Hindi

SRAM 2 प्रकार की होती है

  1. Non-Volatile SRAM (NV-SRAM)
  2. Pseudo SRAM (PSRAM)

SRAM को सर्वप्रथम किसने बनाया था 

Who invented SRAM 

SRAM को सर्वप्रथम वर्ष 1963 मे Robert Norman के द्वारा बनाया गया था 

SRAM का प्रयोग 

SRAM को अधिकतर Digital cameras, routers, printers, LCD screens में प्रयोग किया जाता है।

DRAM क्या होती है 

(What is DRAM in hindi )

DRAM का पूरा नाम डायनामिक रैंडम एक्सेस मेमोरी है इसमें डेटा को कैपेसिटर में store किया जाता है।

DRAM कुछ miliseconds मे refresh करना पड़ता है जिससे उसका विधुत स्तर ( electronic charge) सही रहे अन्यथा इसमे रखा data मिट जाता है , DRAM की IC ( integrated circuit ) यानि memory cell मे transistor तथा capacitor होते है और सभी data , capacitors मे store होता है  

इसका उपयोग मुख्य रूप से RAM के रूप मे ही होता है जबकि SRAM का उपयोग cache memory के रूप मे होता है , desktop computer या laptop computer की main memory के रूप मे DRAM का ही उपयोग किया जाता हैं।

DRAM की स्पीड SRAM की तुलना में कम होती है किन्तु इसमे SRAM की तुलना मे अधिक data store होता है , इसके साथ ही SRAM की तुलना मे इसमे बिजली भी अधिक लगती है 

DRAM के प्रकार | Types of DRAM in Hindi

DRAM के अनेक प्रकार है जिसमे मुख्यत निम्न है ।

  1. Synchronous DRAM (SDRAM)
  2. Double Data Rate SDRAM (DDR SDRAM)
  3. Extended data out DRAM (EDO DRAM)
  4. Graphics Double Data Rate Synchronous Dynamic RAM (GDDR SDRAM, GDDR2, GDDR3, GDDR4, GDDR5)

DRAM का प्रयोग 

networking hardware, video game consoles और computer system  memory  आदि में किया जाता है.

Similarities between computer memory and human memory

Remark :- कोई भी concept यदि उदाहरण के साथ समझा जाये तो वो शीघ्रता से समझ में आता है तो आईये हम सब भी computer memory को उदाहरण के साथ समझते है |

example 

माना 

computer = मनुष्य

computer में cpu = मनुष्य का सिर

cpu में internal register = मनुष्य का मुँह

cache memory = मनुष्य का हाथ

RAM(जिसमे computer, processing के लिए data लेता है  = थाली जिसमे मनुष्य खाना खाता है

Secondary Memory( जिसमे पूरा data रखा होता है) = रसोई में बर्तन जिसमे सारा खाना रखा होता है |

computer के द्वारा data processing = मनुष्य द्वारा खाना खाने की प्रकिया

रसोई घर में रखे बर्तन (secondary memory) में सारा खाना ( data ) रखा है,इसमें से कुछ खाना   ( data ) मनुष्य ( computer ) खाने के लिए ( data processing के लिए ) थाली ( RAM ) में लेता है | अपने हाथ (cache memory) में खाने का कुछ भाग ( some parts of data ) लेकर मुँह ( internal register ) में रख देता है | खाना चबाया जा रहा है ( data की processing हो रही है )|

थाली(ram) में खाना ख़तम हो जाता है ( data process ) हो जाता है तो , रसोई में रखे बर्तनों ( secondary memory ) में से और खाना ( data ) खाने के लिए ( data processing ) के लिए ले लिया जाता है |

खाना का लेने के बाद ( data processing के बाद ) थाली साफ़ करके रख देते है ( RAM  खाली हो जाती है |

खाना मुँह में खाया जा रहा है थाली में नही =data processing internal register में हो रही है RAM में नही जैसा की बोला जाता है |

Remark :- उदाहरण ध्यान से समझे , न समझ आने पर नीचे comment box में , comment करें |

Also Readtypes of computers in hindi-कंप्यूटर के प्रकार

Also Read :   Generation of Computer in hindi 

*****************************

Also Read : generation of computer in english 

*****************************

Also Read5 best tourist places in south india(south india temple tour)-सर्दियों में घूमने के स्थान  

 

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!