Sunday, September 25
Shadow

Sri Krishna Chalisa in English & Hindi-श्री कृष्ण चालीसा

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

Sri Krishna Chalisa in English & Hindi-श्री कृष्ण चालीसा

Krishna Chalisa in English & Hindi-श्री कृष्ण चालीसा: श्री कृष्ण चालीसा का पाठ करने बाद आप एक प्रकार से भगवान् नारायण की चालीसा कर लेते हैं क्योंकि प्रभु विष्णु के जितने भी अवतार हुए उन सब में श्री कृष्ण से युक्त अवतार हुए हैं और जिसने इसकी चालीसा का पाठ कर लिया उसके जीवन में सुख-सौभाग्य की अवश्य वृद्धि होती है।

श्री कृष्ण की कृपा से धन,सिद्धि-बुद्धि,ज्ञान और विवेक की प्राप्ति होती है क्योंकि जो श्री कृष्ण शरणागत है उसे संसार में किसी बात की कोई कमी नही हो सकती है

तो आइये हम सब भी करें श्री कृष्ण चालीसा का पाठ

Sri Krishna Chalisa in English & Hindi-श्री कृष्ण चालीसा

श्री कृष्ण चालीसा

Sri Krishna Chalisa in Hindi

**॥ दोहा ॥**

बंशी शोभित कर मधुर, नील जलद तन श्याम।
अरुणअधरजनु बिम्बफल, नयनकमलअभिराम॥

पूर्ण इन्द्र, अरविन्द मुख, पीताम्बर शुभ साज।
जय मनमोहन मदन छवि, कृष्णचन्द्र महाराज॥

**चौपाई**

जय यदुनंदन जय जगवंदन।
जय वसुदेव देवकी नन्दन॥

जय यशुदा सुत नन्द दुलारे।
जय प्रभु भक्तन के दृग तारे॥

जय नट-नागर, नाग नथइया
कृष्ण कन्हइया धेनु चरइया॥

पुनि नख पर प्रभु गिरिवर धारो।
आओ दीनन कष्ट निवारो॥

वंशी मधुर अधर धरि टेरौ।
होवे पूर्ण विनय यह मेरौ॥

आओ हरि पुनि माखन चाखो।
आज लाज भारत की राखो॥

गोल कपोल, चिबुक अरुणारे।
मृदु मुस्कान मोहिनी डारे॥

राजित राजिव नयन विशाला।
मोर मुकुट वैजन्तीमाला॥

कुंडल श्रवण, पीत पट आछे।
कटि किंकिणी काछनी काछे॥

नील जलज सुन्दर तनु सोहे।
छबि लखि, सुर नर मुनिमन मोहे॥

मस्तक तिलक, अलक घुंघराले।
आओ कृष्ण बांसुरी वाले॥

करि पय पान, पूतनहि तार्‌यो।
अका बका कागासुर मार्‌यो॥

मधुवन जलत अगिन जब ज्वाला।
भै शीतल लखतहिं नंदलाला॥

सुरपति जब ब्रज चढ़्‌यो रिसाई।
मूसर धार वारि वर्षाई॥

लगत लगत व्रज चहन बहायो।
गोवर्धन नख धारि बचायो॥

लखि यसुदा मन भ्रम अधिकाई।
मुख मंह चौदह भुवन दिखाई॥

दुष्ट कंस अति उधम मचायो
कोटि कमल जब फूल मंगायो॥

नाथि कालियहिं तब तुम लीन्हें।
चरण चिह्न दै निर्भय कीन्हें॥

करि गोपिन संग रास विलासा।
सबकी पूरण करी अभिलाषा॥

केतिक महा असुर संहार्‌यो।
कंसहि केस पकड़ि दै मार्‌यो॥

मात-पिता की बन्दि छुड़ाई।
उग्रसेन कहं राज दिलाई॥

महि से मृतक छहों सुत लायो।
मातु देवकी शोक मिटायो॥

भौमासुर मुर दैत्य संहारी।
लाये षट दश सहसकुमारी॥

दै भीमहिं तृण चीर सहारा।
जरासिंधु राक्षस कहं मारा॥

असुर बकासुर आदिक मार्‌यो।
भक्तन के तब कष्ट निवार्‌यो॥

दीन सुदामा के दुख टार्‌यो।
तंदुल तीन मूंठ मुख डार्‌यो॥

प्रेम के साग विदुर घर मांगे।
दुर्योधन के मेवा त्यागे॥

लखी प्रेम की महिमा भारी।
ऐसे श्याम दीन हितकारी॥

भारत के पारथ रथ हांके।
लिये चक्र कर नहिं बल थाके॥

निज गीता के ज्ञान सुनाए।
भक्तन हृदय सुधा वर्षाए॥

मीरा थी ऐसी मतवाली।
विष पी गई बजाकर ताली॥

राना भेजा सांप पिटारी।
शालीग्राम बने बनवारी॥

निज माया तुम विधिहिं दिखायो।
उर ते संशय सकल मिटायो॥

तब शत निन्दा करि तत्काला।
जीवन मुक्त भयो शिशुपाला॥

जबहिं द्रौपदी टेर लगाई।
दीनानाथ लाज अब जाई॥

तुरतहि वसन बने नंदलाला।
बढ़े चीर भै अरि मुंह काला॥

अस अनाथ के नाथ कन्हइया।
डूबत भंवर बचावइ नइया॥

‘सुन्दरदास’ आस उर धारी।
दया दृष्टि कीजै बनवारी॥

नाथ सकल मम कुमति निवारो।
क्षमहु बेगि अपराध हमारो॥

खोलो पट अब दर्शन दीजै।
बोलो कृष्ण कन्हइया की जै॥

Sri Krishna Chalisa in English & Hindi-श्री कृष्ण चालीसा

श्री कृष्ण चालीसा

Sri Krishna Chalisa in English

॥ Doha ॥

Banshi Shobhit Kar Madhur,
Neel Jalad Tan Shyam ।

Arun Adhar Janu Bimbaphal,
Nayan Kamal Abhiram ॥

Poorn Indra, Aravind Mukh,
Peetambar Shubh Saaj ।
Jay Manmohan Madan Chhavi,
Krishnachandr Maharaj ॥

**॥ Chaupai ॥**

Jai Yadunandan Jai Jagavandan ।
Jai Vasudev Devaki Nandan ॥

Jai Yashuda Sut Nand Dulare ।
Jai Prabhu Bhaktan Ke Drg Tare ॥

Jai Natnagar, Naag Nathiya ।
Krishn Kanhiya Dhenu Chariya ॥

Puni Nakh Par Prabhu Girivar Dhaaro ।
Aao Deenan Kasht Nivaro ॥ 4 ॥

Vanshi Madhur Adhar Dhari Terau ।
Howe Poorn Vinay Yah Merau ॥

Aao Hari Puni Makhan Chakho ।
Aaj Laaj Bharat Ki Rakho ॥

Gol Kapol, Chibuk Arunare ।
Mridu Muskan Mohini Daare ॥

Rajeet Rajiv Nayan Vishala ।
Mor Mukut Vaijantimala ॥ 8 ॥

Kundal Shravan, Peet Pat Aachhe ।
Kati Kinkini Kaachhani Kachhe ॥

Neel Jalaj Sundar Tanu Sohe ।
Chhabi Lakhi, Sur Nar Muniman Mohe ॥

Mastak Tilak, Alak Ghungharale ।
Aao Krshn Baansuri Wale ॥

Carry Paya Paan, Putnahi Tariyo ।
Kka Baka Kagasura Maryo ॥ 12 ॥

Madhuvan Jalat Agin Jab Jwala ।
Bhai Sheetal Lakhatahin Nandalala ॥

Surapati Jab Braj Chadhyo Risai ।
Moosar Dhaar Vaari Varshai ॥

Lagat Lagat Lagat Vraj Chahan Bahayo ।
Govardhan Nakh Dhari Bachayo ॥

Lakhi Yasuda Man Bhram Adhikai ।
Mukh Manh Chaudah Bhuvan Dikhai ॥ 16 ॥

Dusht Kans Ati Udham Machayo ।
Koti Kamal Jab Phool Mangayo ॥

Naathi Kaliyahin Tab Tum Linhen ।
Charan Chihn Dai Nirbhay Kinhen ॥

Kari Gopin Sang Raas Vilasa ।
Sabki Pooran Kari Abhilasha ॥

Ketik Maha Asura Sanharyo ।
Kanshi Cesh Pakdi De Maryo ॥ 20 ॥

Matpita Ki Bandi Chudai ।
Ugrasen Kahan Raaj Dilai ॥

Mahi Se Mritak Chhahon Sut Laayo।

Maatu Devaki Shok Mitayo ॥

Bhaumasur Mur Daity Sanhari ।
Laaye Shat Dash Sahasakumari ॥

Dai Bhimahin Trina Chir Sahara ।
Jarasindhu Rakshas Kahan Maara ॥ 24 ॥

Asura Bakasura Adik Maryo ।
Bhaktan Ke Tab Kasht Nivaryo ॥

Deen Sudama Ke Duhkh Taaryo ।
Tandul Teen Moonth Mukh Daary ॥ ॥

Sri Krishna Chalisa in English & Hindi-श्री कृष्ण चालीसा

 

ये भी पढ़े :  अन्य देवी देवताओं की चालीसा hindi और english में 

****************************************

सरल भाषा में computer सीखें : click here

****************************************

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!