Wednesday, November 30
Shadow

श्री गणेश स्तुति Sri Ganesh Stuti in Hindi के पाठ से मिलता है धन , विद्या, बुद्धि, विवेक, यश, प्रसिद्धि, सिद्धि

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

श्री गणेश स्तुति Sri Ganesh Stuti in Hindi के पाठ से मिलता है धन , विद्या, बुद्धि, विवेक, यश, प्रसिद्धि, सिद्धि

Sri Ganesh Stuti in Hindi : पौराणिक ग्रंथों के अनुसार श्री गणेश स्तुति और श्री गणेश श्लोक किसी भी पूजा में सर्वप्रथम करने चाहिए क्योंकि गणेश जी सभी देवी देवताओं में प्रथम पूजनीय हैं , श्री गणेश स्तुति और श्री गणेश श्लोक के पाठ से जीवन में धन , विद्या, बुद्धि, विवेक, यश, प्रसिद्धि, सिद्धि की प्राप्ति होती है और साथ ही हमार्व जीवन के विघ्न,बाधा,आलस्य, रोग आदि दूर होते हैं ।

श्री गणेश स्तुति Sri Ganesh Stuti in Hindi

श्री गणेश श्लोक  Sri Ganesh Shlok in hindi

image courtesy : flickr

ॐ गजाननं भूंतागणाधि सेवितम्,

कपित्थजम्बू फलचारु भक्षणम्।

उमासुतम् शोक विनाश कारकम्,

नमामि विघ्नेश्वर पादपंकजम्॥

श्री गणेश स्तुति Sri Ganesh Stuti in Hindi 

गाइए गणपति जगवंदन।

शंकर सुवन भवानी के नंदन।।

गाइए गणपति जगवंदन…

सिद्धी सदन गजवदन विनायक।

कृपा सिंधु सुंदर सब लायक।।

गाइए गणपति जगवंदन…

मोदक प्रिय मृद मंगल दाता।

विद्या बारिधि बुद्धि विधाता।।

गाइए गणपति जगवंदन…

मांगत तुलसीदास कर जोरे।

बसहिं रामसिय मानस मोरे।।

गाइए गणपति जगवंदन…

 

*******************************

ये भी पढ़े : महालक्ष्मी स्तु‍ति Mahalaxmi Stuti in Hindi इसके पाठ से इंद्र की दरिद्रता दूर हुई थी

ये भी पढे : शिव स्तुति मंत्र (Shiv Stuti Mantra) जीवन मे सभी सुखों को देने वाला मंत्र है

ये भी पढ़े : श्री स्तुति मंत्र ( Sri Stuti : Sri Stuthi ) के पाठ से जीवन से सभी प्रकार के अभाव दूर होते है

ये भी पढ़े : माँ त्रिपुर भैरवी स्तुति Maa Tripura Bhairavi Stuti

ये भी पढ़े : मंगला गौरी स्तुति– Mangla Gauri Stuti in hindi मांगलिक दोष को दूर करने का उपाय

 

****************************************

सरल भाषा में computer सीखें : click here

****************************************

ये भी पढ़े : Vrindavan a 2 z easy tour guide||वृंदावन-प्रभु श्री कृष्ण की नगरी

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!