Thursday, August 18
Shadow

mangal chandika stotra श्रीमंगल चंडिका स्त्रोत के लाभ

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

mangal chandika stotra श्रीमंगल चंडिका स्त्रोत के लाभ

mangal chandika stotra : श्रीमंगल चंडिका स्त्रोत के लाभ यदि आप पाना चाहते तो स्तोत्र का पाठ मंगलवार दिन से आरंभ करें , श्री मंगल चंडिका स्तोत्रम् का वर्णन ब्रह्मवार्ता पुराण में मिलता है , ये अत्यंत चमत्कारिक है , श्री मंगल चंडिका स्तोत्रम् संस्कृत भाषा में लिखा है . मंगल चंडिका स्तोत्रम् का जाप करने से सभी इच्छाये पूरी हो जाती हैं  श्री मंगल चंडिका स्तोत्रम् का जो व्यक्ति नियमित रूप से जाप करता हैं उसे धन, व्यापार, गृह-कलेश आदि समस्या नही होती है ! जिस भी जातक का विवाह में कठिनाई आ रही हो तो उसे श्री मंगल चंडिका स्तोत्रम् का नियमित जाप करना चाहिए इससे उसके विवाह में आ रही कठिनाई दूर हो जाती हैं

mangal chandika stotra श्रीमंगल चंडिका स्त्रोत के लाभ

mangal chandika stotra

श्री मंगल चंडिका स्तोत्रम्

*।। श्री मंगलचंडिकास्तोत्रम् ।।*

** ध्यान **

“ॐ ह्रीं श्रीं क्लीं सर्वपूज्ये देवी मङ्गलचण्डिके –> |

ऐं क्रूं फट् स्वाहेत्येवं चाप्येकविन्शाक्षरो मनुः –> ||

पूज्यः कल्पतरुश्चैव भक्तानां सर्वकामदः –> |

दशलक्षजपेनैव मन्त्रसिद्धिर्भवेन्नृणाम् –> ||

मन्त्रसिद्धिर्भवेद् यस्य स विष्णुः सर्वकामदः –> |

ध्यानं च श्रूयतां ब्रह्मन् वेदोक्तं सर्व सम्मतम् –> ||

देवीं षोडशवर्षीयां शश्वत्सुस्थिरयौवनाम् –> |

सर्वरूपगुणाढ्यां च कोमलाङ्गीं मनोहराम् –> ||

श्वेतचम्पकवर्णाभां चन्द्रकोटिसमप्रभाम् –> |

वन्हिशुद्धांशुकाधानां रत्नभूषणभूषिताम् –> ||

बिभ्रतीं कबरीभारं मल्लिकामाल्यभूषितम् –> |

बिम्बोष्टिं सुदतीं शुद्धां शरत्पद्मनिभाननाम् –> ||

ईषद्धास्यप्रसन्नास्यां सुनीलोल्पललोचनाम् –> |

जगद्धात्रीं च दात्रीं च सर्वेभ्यः सर्वसंपदाम् –> ||

संसारसागरे घोरे पोतरुपां वरां भजे –> ||

देव्याश्च ध्यानमित्येवं स्तवनं श्रूयतां मुने –> |

प्रयतः संकटग्रस्तो येन तुष्टाव शंकरः –> ||

*|| शंकर उवाच ||*

रक्ष रक्ष जगन्मातर्देवि मङ्गलचण्डिके –> |

हारिके विपदां राशेर्हर्षमङ्गलकारिके –> ||

हर्षमङ्गलदक्षे च हर्षमङ्गलचण्डिके –> |

शुभे मङ्गलदक्षे च शुभमङ्गलचण्डिके –> ||

मङ्गले मङ्गलार्हे च सर्व मङ्गलमङ्गले –> |

सतां मन्गलदे देवि सर्वेषां मन्गलालये –> ||

पूज्या मङ्गलवारे च मङ्गलाभीष्टदैवते –> |

पूज्ये मङ्गलभूपस्य मनुवंशस्य संततम् –> ||

मङ्गलाधिष्टातृदेवि मङ्गलानां च मङ्गले –> |

संसार मङ्गलाधारे मोक्षमङ्गलदायिनि –> ||

सारे च मङ्गलाधारे पारे च सर्वकर्मणाम् –> |

प्रतिमङ्गलवारे च पूज्ये च मङ्गलप्रदे –> ||

स्तोत्रेणानेन शम्भुश्च स्तुत्वा मङ्गलचण्डिकाम् –> |

प्रतिमङ्गलवारे च पूजां कृत्वा गतः शिवः –> ||

देव्याश्च मङ्गलस्तोत्रं यः श्रुणोति समाहितः –> |

तन्मङ्गलं भवेच्छश्वन्न भवेत् तदमङ्गलम् .

* इति श्री ब्रह्मवैवर्ते श्री मंगल चंडिका स्तोत्रम् संपूर्णम्  *

mangal chandika stotra श्रीमंगल चंडिका स्त्रोत के लाभ

image source : youtube 

 

निष्कर्ष :

साथियों हम आशा करते है कि इस पोस्ट “mangal chandika stotra श्रीमंगल चंडिका स्त्रोत के लाभ” 

हम आशा करते है कि पोस्ट आपको अच्छी लगी होगी , कुंडली विश्लेषण के लिए हमारे WhatsApp number 8533087800 पर संपर्क कर सकते हैं

अब यदि कोई ग्रह ख़राब फल दे रहा हो , कुपित हो या निर्बल हो तो उस ग्रह के मंत्रों का जाप , रत्न आदि धारण करने चाहिए ,

इसके साथ ही आप ग्रह शांति जाप ,पूजा , रत्न  परामर्श और रत्न खरीदने के लिए अथवा कुंडली के विभिन्न दोषों जैसे मंगली दोष , पित्रदोष आदि की पूजा और निवारण उपाय जानने के लिए भी संपर्क कर सकते हैं

अपना ज्योतिषीय ज्ञान वर्धन के लिए हमारे facebook ज्योतिष ग्रुप के साथ जुड़े , नीचे दिए link पर click करें

श्री गणेश ज्योतिष समाधान 

ये भी पढ़े : पुरुष और स्त्री की कुंडली में अवैध संबंध के योग 21 extramarital affairs conditions

टेक्नोलॉजिकल ज्ञान  : Function of computer कंप्यूटर क्या कार्य करता है 

 

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!