Saturday, December 10
Shadow

स्त्री की कुंडली में शुक्र का महत्व -7 उपाय Strong & Weak Venus in female horoscope

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

स्त्री की कुंडली में शुक्र का महत्व -7 उपाय Strong & Weak Venus in female horoscope

ज्योतिष में स्त्री की कुंडली में शुक्र किसी भी स्त्री के पूरे जीवन को प्रभावित करने की क्षमता रखता है , स्त्री की कुंडली में शुक्र का महत्व इसलिए भी बढ़ जाता है क्योंकि स्त्री को ज्योतिष में स्वंम शुक्र माना गया है , आज इस पोस्ट में हम एक प्रकार से शुक्र की कुंडली में शुक्र का क्या महत्व इस विषय पर बात करेंगे तो आइये जानते हैं

स्त्री की कुंडली में शुक्र का महत्व

Strong & Weak Venus in female horoscope

शुक्र ग्रह को शुभ और रजोगुणी ग्रह माना जाता है। इस ग्रह को जीवन से जुड़ी सभी भौतिक सुख सुविधाएं ,खान पान , वेषभूषा , प्रेम , संगीत ,रोमांस और यौन संबंधों का कारक माना जाता है।

लेकिन शुक्र ग्रह का स्त्रियों से एक गहरा संबंध होता है। कहा जाता है कि किसी भी स्त्री की कुंडली में जैसे बृहस्पति ग्रह महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, वैसे ही शुक्र भी दांपत्य जीवन में प्रमुख भूमिका निभाता है। माना जाता है कि जिस स्त्री का मुख जितना अधिक आकर्षक होगा उसकी कुंडली का शुक्र उतना ही अधिक बलवान होगा

यह स्त्री के चेहरे को आकर्षण का केंद्र बनाता है। परंतु आवश्यक नहीं है कि की स्त्री का रंग गोरा है या सांवला। ज्योतिष के अनुसार सुंदर नेत्र और सुंदर केश यानि बालों से पहचाना जा सकता है स्त्री का शुक्र शुभ ग्रहों के प्रभाव में है ।

जिस किसी स्त्री की कुंडली में शुक्र का अच्छा प्रभाव हो तो उसे जीवन में सभी सुख सुविधा प्राप्त होती है, उसे अच्छा खान पान , अच्छे वस्त्र , वाहन, घर, ज्वेलरी आदि सहज ही मिल जाते है ।  स्त्री की कुंडली में शुक्र अच्छा होने का ये भी अर्थ है कि वो स्त्री जिस किसी भी वर्ग की हो जैसे  उच्च मध्यम या निम्न वर्ग से हो लेकिन अपने वर्ग में वो सबसे अधिक सुखी जीवन जीने वाली होगी क्योंकि उसे अच्छा शुक्र सुख प्रदान अवश्य ही करेगा ।

कुंडली में अच्छा शुक्र स्त्री को गायन, अभिनय, काव्य-लेखन की और प्रेरित करता है साथ ही वो खाना बनाने में भी पारंगत होती है ।  यदि शुक्र ग्रह चन्द्र के साथ संबंध रखता हो तो ऐसी स्त्री भावुक होती हैं। यदि बृहस्पति और बुध का साथ भी मिल जाए तो स्त्री लेखन या communication के क्षेत्र में पारंगत होती है।

स्त्री कुंडली में ग्रह फल stri kundli me grah fal

स्त्री की कुंडली में शुक्र की विभिन्न स्थिति

–>1. यदि लग्नेश पर शुभ राहु का प्रभाव हो तो अच्छा शुक्र स्त्री में मोटापा भी देता है लेकिन वो मोटापा आकर्षित करता है वहीँ बृहस्पति स्त्री को थुलथुला मोटापा देता है, शुक्र से आने वाला मोटापा स्त्री को सुन्दरता के साथ मादकता भी देता है ।

–>2. यदि कुंडली में शुक्र बुरे या पापी ग्रहों का सानिध्य या कुंडली के दूषित भावों के साथ हो तो स्त्री में चारित्रिक दोष भी उत्पन्न कर सकता है। जिसके कारण विवाह में विलंब,दांपत्य जीवन मे कलेश, बहु विवाह और विवाह विच्छेद की स्थिति उत्पन्न होने के सम्भावना उत्पन्न हो जाती है ।

–> 3. स्त्री की कुंडली में शुक्र यदि पीड़ित हो तो स्त्री को हीरा पहनने से बचना चाहिए । यदि ऐसी स्थिति में हीरा पहना जाए तो निर्बल शुक्र स्त्री में मधुमेह, थाइराईड, यौन रोग, अवसाद , धन और सुख सुविधा की कमी और वैभव हीनता लाता है।

–>4. स्त्री की कुंडली में शुक्र की स्थिति उसके सुंदर नेत्र और सुंदर केश यानि बालों से पहचानी जा सकती है , कुंडली का अच्छा शुक्र स्त्री को गायन, अभिनय, काव्य-लेखन की और प्रेरित करता है।

–>5. यदि शुक्र ग्रह चन्द्र के साथ संबंध रखता हो तो ऐसी स्त्री भावुक होती हैं।

–>6. स्त्री की कुंडली में शुक्र अच्छा हो और साथ ही गुरु बृहस्पति केंद्र में मित्र राशि में हो तो ऐसी स्त्री अपने व्यवहार से सबको प्रसन्न रखने वाली और रिश्तो नातों को जोड़कर चलने वाली होती है .

स्त्री की कुंडली में शुक्र का महत्व -7 उपाय Strong & Weak Venus in female horoscope

 

image credit : pixabay

ये भी पढ़ेhttp://unsplash.com : दुर्गा सप्तशती सिद्ध मंत्र 31 Durga Saptashati Siddha Samput Mantra

शुक्र ग्रह के उपाय 

–> 1. जन्म कुंडली के 6th , 7th या 12th भाव में शुक्र हो और शनि – राहु से दृष्ट हो और बृहस्पति निर्बल हो तो चरित्र पर ध्यान दे , साथ यदि सूर्य भी निर्बल हुए तो चरित्र और समाज में सम्मान दोनों समाप्त हो जायेंगे ।

–>2.  इसके अतिरिक्त शुक्र को कुंडली में अनुकूल करने के लिए शुक्रवार का व्रत और देवी  लक्ष्मी जी की आराधना करनी चाहिए। छोटी कन्याओं को खीर खिलाना चाहिए। इसके साथ ही लक्ष्मी आरती , लक्ष्मी चालीसा का पाठ , कनक धारा, श्री सूक्त, लक्ष्मी स्त्रोत  और कुछ विशेष लक्ष्मी मन्त्रों का जाप भी शुक्र ग्रह को कुंडली में बलवान करता है।

–>3.  शुक्र को प्रसन्न करने के लिए शुक्रवार का व्रत और माँ लक्ष्मी जी की पूजा आराधना करनी चाहिए।

–>4.  लक्ष्मी को गुलाबी या श्वेत मखमली आसन पर बैठा कर गाय के घी से आरती और सुगन्धित पुष्प प्रदान करें

–>5.  यदि शुक्र उच्च का न हो तो सफ़ेद वस्त्र, सफ़ेद पुष्प,इत्र ,दही, कपूर का दान देना अनुकूल रहता है।

–>6.  शुक्रवार के दिन  छोटी कन्याओं को चावल की इलाइची डाल कर खीर भी खिलानी चाहिए।

–>7.  कभी भी मैले कुचले कपड़े  नही पहने और नंगे पाँव न घूमे

निष्कर्ष : साथियों हम आशा करते है कि इस पोस्ट ” स्त्री की कुंडली में शुक्र का महत्व -7 उपाय Strong & Weak Venus in female horoscope ” को पढ़ा ,

हम आशा करते है कि पोस्ट आपको अच्छी लगी होगी , यदि आप भी अपनी कुंडली में शुक्र की स्थिति पता करना चाहते हैं तो कुंडली विश्लेषण के लिए हमारे whatsApp number 8533087800 पर संपर्क कर सकते हैं

अब यदि कोई ग्रह ख़राब फल दे रहा हो , कुपित हो या निर्बल हो तो उस ग्रह के मंत्रों का जाप , रत्न आदि धारण करने चाहिए ,

इसके साथ ही आप ग्रह शांति जाप ,पूजा , रत्न  परामर्श और रत्न खरीदने के लिए अथवा कुंडली के विभिन्न दोषों जैसे मंगली दोष , पित्रदोष , कालसर्प दोष आदि की पूजा और निवारण उपाय जानने के लिए भी संपर्क कर सकते हैं

अपना ज्योतिषीय ज्ञान वर्धन के लिए हमारे facebook ज्योतिष ग्रुप के साथ जुड़े , नीचे दिए link पर click करें

श्री गणेश ज्योतिष समाधान 

टेक्नोलॉजिकल ज्ञान  : CPU क्या है What is CPU in Hindi,CPU Core,CPU types,complete & in easy langauge in 1 article

ये भी पढ़े :ज्योतिष के अनुसार शिक्षा -9 ग्रहों के अनुसार शिक्षा (education in astrology – education as per planets)

 

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!