Wednesday, November 30
Shadow

Sun in cancer sign-Kark Sankranti 2022 सूर्य कर्क संक्रांति कब है-जाने महत्व,शुभ मुहूर्त,पूजा विधि

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

Sun in cancer sign-Kark Sankranti 2022 सूर्य कर्क संक्रांति कब है-जाने महत्व,शुभ मुहूर्त,पूजा विधि

Sun in cancer sign-Kark Sankranti 2022 सूर्य कर्क संक्रांति) 16 जुलाई 2022 को सूर्य मिथुन राशि से कर्क राशि में प्रवेश कर जाएंगे। हिंदू धर्म में सूर्य की कर्क संक्रांति का बहुत महत्व है। जब भी सूर्य किसी एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करते हैं तो इस घटनाक्रम को सूर्य संक्रांति कहते हैं

जब सूर्य मिथुन राशि से आगे बढ़ते हुए कर्क राशि में आते हैं तो उसे सूर्य कर्क संक्रांति कहा जाता है।

वर्ष 2022 मे सूर्य कर्क संक्रांति 16 जुलाई दिन शनिवार को है।  सूर्य सभी 12 राशियों में प्रवेश करते हैं, इस प्रकार वर्ष में कुल 12 संक्रांति होती हैं। इनमें मकर और कर्क संक्रांति का विशेष महत्व है।

कर्क संक्रांति पर जप-तप ,पूजा-पाठ और दान आदि करना शुभ फलदायक होता । इस दिन की गई पूजा-पाठ से अनेक प्रकार के ग्रह दोष दूर होते हैं और ग्रह-नक्षत्रों का शुभ फल प्राप्त होने लगता है।

(आप पढ़ रहें हैं Sun in cancer sign-Kark Sankranti 2022 सूर्य कर्क संक्रांति)

कर्क संक्रांति का महत्व Importance of Kark Sankranti

सूर्य 6 महीने के लिए उत्तरायण और 6 महीने के लिए दक्षिणायन में रहते हैं। कर्क संक्रांति से दक्षिणायन काल आरंभ होता है और ये दक्षिणायन काल मकर संक्रांति तक चलता  है। इस प्रकार सूर्य जब मकर से मिथुन राशि तक उत्तरायण और कर्क से धनु राशि तक दक्षिणायन रहते हैं।

दक्षिणायन के समय दिन छोटे रातें लंबी होने लगती हैं और ये समय वर्षा, शरद, हेमंत ये तीन ऋतुएं का समय होता है । दक्षिणायन में सूर्य दक्षिण दिशा की ओर जाने लगता है।

कर्क संक्रांति का समय मानसून का समय होता है जिसमे धरती पर चारों तरफ हरियाली आ जाती है। दक्षिणायन काल मे ही चातुर्मास पड़ते है जिनमे कोई मांगलिक कार्यक्रम नहीं किया जाता है

(आप पढ़ रहें हैं Sun in cancer sign-Kark Sankranti 2022 सूर्य कर्क संक्रांति)

सूर्य कर्क संक्रांति का शुभ मुहूर्त

–> सूर्य का कर्क राशि में गोचर 16 जुलाई, 2022 की रात 11:11 बजे होगा।

–> कर्क संक्रांति पुण्य काल – प्रातः 05 बजकर 34 मिनट से साएँ 05 बजकर 09 मिनट तक
–> संक्रांति महापुण्य काल – दोपहर 02 बजकर 51 मिनट से साएँ 05 बजकर 09 मिनट तक
–> अभिजीत मुहूर्त : प्रातः 11:37 से 12:31 तक।
–> अमृत काल मुहूर्त : प्रात: 05:47 से 07:14 तक।
–> विजय मुहूर्त : 02:20 से 03:14 तक।
–> गोधूलि मुहूर्त : साएँ 06:37 से 07:01 तक।

ये भी पढे : धोखेबाज जीवनसाथी-कुंडली से जाने पत्नी या पति का चरित्र cheating husband or wife by horoscope

(आप पढ़ रहें हैं Sun in cancer sign-Kark Sankranti 2022 सूर्य कर्क संक्रांति)

कर्क संक्रांति की पूजा विधि

अनेक लोग दिन उपवास और दान करते हैं इसलिए ब्रह्म मुहूर्त में उठकर स्नान व ध्यान कर व्रत का संकल्प लेना चाहिए । संभव हो तो पवित्र नदियों में स्नान करना चाहिए साथ ही पितरों के नाम से दान करने से पितर हमे आशीर्वाद देते हैं।यदि संभव न हो तो घर मे नहाने के जल में गंगाजल मिलाकर स्नान करना चाहिए।

सूर्योदय के समय पूर्व दिशा की ओर मुख करके तांबे के लोटे में जल  भरके उसमे अक्षत ,तिल और गुड़हल का फूल या रोली मिलाकर सूर्यदेव को अर्पित करें। कर्क संक्रांति के दिन आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ अथवा सूर्य मंत्रों का जप करना चाहिए। इसके बाद सामर्थ्य के अनुसार दान करें।
यदि आप व्रत रखते हैं तो ध्यान रखें कि बिना नमक के ही भोजन करें।कर्क संक्रांति के दिन सूर्यदेव की पूजा करने से सभी रोग व दोष दूर होते हैं और जीवन का अंधकार दूर होता है और जीवन में सुख-समृद्धि आती है।

ये भी पढे : Saturn Transit 2022: 12 जुलाई को वक्री अवस्था में शनि मकर राशि में-किसको लाभ और किसको हानि

निष्कर्ष :

साथियों हमें आशा है कि आपको ये पोस्ट  ” Sun in cancer sign-Kark Sankranti 2022 सूर्य कर्क संक्रांति कब है-जाने महत्व,शुभ मुहूर्त,पूजा विधि ” पसंद आई होगी , यदि हाँ तो इसे अपने जानने वालों में share करें। , कुंडली विश्लेषण के लिए हमारे WhatsApp number 8533087800 पर संपर्क कर सकते हैं

अब यदि कोई ग्रह ख़राब फल दे रहा हो , कुपित हो या निर्बल हो तो उस ग्रह के मंत्रों का जाप , रत्न आदि धारण करने चाहिए ,

इसके साथ ही आप ग्रह शांति जाप ,पूजा , रत्न  परामर्श और रत्न खरीदने के लिए अथवा कुंडली के विभिन्न दोषों जैसे मंगली दोष , पित्रदोष आदि की पूजा और निवारण उपाय जानने के लिए भी संपर्क कर सकते हैं

अपना ज्योतिषीय ज्ञान वर्धन के लिए हमारे facebook ज्योतिष ग्रुप के साथ जुड़े , नीचे दिए link पर click करें

श्री गणेश ज्योतिष समाधान 

ये भी पढ़े : पुरुष और स्त्री की कुंडली में अवैध संबंध के योग 21 extramarital affairs conditions

********************************************************

ये भी पढ़े : 

करसनभाई पटेल Success story of Karsanbhai Patel

ये भी पढ़े : कभी साइकिल से बेचा वाशिंग पाउडर-आज 600 मिलियन डालर से अधिक के स्वामी-करसनभाई पटेल Success story of Karsanbhai Patel

Rajnikant Success story in Hindi

ये भी पढे : कैसे एक कारपेंटर 350 करोड़ की सम्पति का स्वामी है,Rajnikanth Success story in Hindi

****************************************

सरल भाषा में computer सीखें : click here

****************************************

मूर्खों का बहुमत- पंचतंत्र की कहानी - panchtantra ki kahaniyan The Majority of Fools Story In Hindi

ये भी पढे : मूर्खों का बहुमत– पंचतंत्र की कहानी – panchtantra ki kahaniyan The Majority of Fools Story In Hindi

 

funny Panchatantra Story of the king and the foolish monkey राजा और मुर्ख बंदर की कहानी

ये भी पढे : राजा और मुर्ख बंदर की कहानी No1 funny Panchatantra Story of the king and the foolish monkey

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!