Friday, December 9
Shadow

Chhath Puja 2022 Date: छठ पूजा की तिथि, शुभ मुहूर्त,नियम और महत्व

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

Chhath Puja 2022 Date : छठ पूजा की तिथि, शुभ मुहूर्त, नियम और महत्व

भगवान सूर्यदेव की आराधना से जुड़ा पर्व छठ पूजा (Chhath Puja 2022 Date) प्रतिवर्ष कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि से आरंभ होता है। इस वर्ष 28 अक्टूबर से 31 अक्टूबर तक मनाया जाएगा। यह पर्व विशेष रूप से पूर्वी उत्तरप्रदेश,बिहार, झारखंड,बंगाल मे मनाया जाने वाला पर्व है किन्तु देश के अन्य भागों के साथ साथ छठ पर्व आज विदेशों मे भी प्रसिद्ध है 

वैसे तो छठ पर्व प्रति वर्ष 2 बार मनाया जाता है। चैत्र माह शुक्ल षष्ठी और कार्तिक माह शुक्ल षष्ठी को किन्तु दीपावली पर्व के बाद मनाया जाने वाला छठ पर्व  विशेष रूप से प्रसिद्द है।

छठ पर्व पूर्वी भारत का महापर्व है, इसमें छठी मैया और सूर्य देव की विशेष पूजा की जाती है। छठ पर्व मे छठी मैया की पूजा की जाती है जो अपने भक्तो को सुख-समृद्धि, धन, वैभव, यश और मान-सम्मान प्रदान करती  है।

सूर्य चालीसा Surya chalisa in hindi & english- easy 2 learn

Chhath Puja 2022 Date

छठ पर्व 4 दिनों तक चलता है और इस पर्व में 36 घंटे निर्जला व्रत रखकर सूर्य देव और छठी मैया की पूजा की जाती है इसीलिए इस पर्व को एक कठिन पर्व माना गया है ।Chhath Puja 2022 Date

छठ पूजा मे कार्तिक माह की चतुर्थी तिथि के दिन नहाय-खाय होता है, दूसरे दिन खरना और तीसरे दिन सूर्यास्त के समय डूबते सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है।

चौथे दिन सूर्योदय के समय उगते सूर्य को अर्घ्य देने के बाद व्रत का पारण किया जाता है। छठी मैया की पूजा स्त्रीओं के साथ पुरुष भी करते हैं।

छठ पूजा के अनेक नामों से जाना जाता है जैसे- छठी माई पूजा, छठ पूजा, छठी माई, सूर्य षष्ठी पूजा, डाला छठ,  छठ, छठ माई पूजा आदि । 

छठ पूजा मे स्त्रीएं संतान प्राप्ति हेतु , अपनी संतानों की दीर्घायु और सुख समृद्धि के लिए और संतान के सुखी जीवन के लिए व्रत रखती है। 

आओ जानते हैं छठ पूजा की तिथि,छठ पूजा के नियम,छठ पूजा महत्व आदि ।

छठ पूजा की तिथि – छठ पर्व की डेट्‍स- Chhath Puja 2022 Date in Hindi

28 अक्टूबर 2022, शुक्रवार के दिन –> नहाय-खाय

नहाय खाये छठ पूजा का प्रथम दिन होता है जिसमे स्नान करने के बाद घर की साफ-सफाई की जाती है और शुद्ध सात्विक शाकाहारी भोजन किया जाता है।

29 अक्टूबर 2022, शनिवार के दिन –> खरना

इस दिन निर्जला व्रत रखा जाता है। संध्याकाल में घी की रोटी के साथ गुड़ की खीर और फलों का सेवन कर सकते हैं

30 अक्टूबर 2022, रविवार के दिन –> डूबते सूर्य का अर्घ्य

इसमे छठी मैया की फल आदि प्रसाद से भरे सूप से पूजा की जाती है और सूर्य देव को जल और दूध अर्पित करते हुए अर्घ्य दिया जाता है , सूर्य देव की पूजा के बाद रात में छठी मैया की व्रत की कथा सुनी जाती है।

31 अक्टूबर 2022, सोमवार के दिन –> उगते सूर्य का अर्घ्य

इस दिन प्रातःकाल सूर्य देव को अर्घ्य दिया जाता है जिसके लिए सूर्योदय होने से पूर्व नदी के घाट, पोखरा – तालाब के घाट पर पहुंचकर सूर्य उदय के समय सूर्य को अर्घ्य देते हैं और छठी मैया से संतान की रक्षा और परिवार मे सुख-शांति का आशीर्वाद मांगते है।

इसके बाद कच्चे दूध का शरबत का सेवन करके और प्रसाद ग्रहण करते हुए पारण करते है यानि व्रत समाप्त करते हैं।

छठ पूजा का पारण

31 अक्टूबर 2022, सोमवार के दिन उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देने के बाद ।

Chhath Puja 2022 Date

छठ पूजा शुभ मुहूर्त – Chhath Puja Muhurat in Hindi

30 अक्टूबर को सूर्यास्त का समय (संध्या अर्घ्य): – 30 अक्टूबर, 05:37 PM
31 अक्टूबर को सूर्योदय का समय (सूर्योदय अर्घ्य) – 31 अक्टूबर, 06:31 AM

Chhath Puja 2022 Date

Chhath Puja 2022 Date

Chhath Puja 2022 Date

छठ पूजा के नियम

छठ पूजा के मात्र विवाहित स्त्री ही कर सकती हैं। जिसमे छठ पूजा का व्रत रखने के लिए स्वच्छता और साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाता है 

जो छठ पूजा करते हैं उन्हे रात्रि के समय फर्श पर सोने पड़ता है और छठ पूजा के प्रसाद बनाने मे प्रयोग होने वाले बर्तनों को भली भांति साफ करना होता है और प्रसाद बनाने के लिए अस्थायी रसोई बनाई जाती है। छठ पूजा मे घर मे थेकुआ नाम की आटे से बनी मिठाई बनाई जाती है।

छठ पूजा का महत्व – Chhath puja ka mahatva

छठ पूजा और सूर्य पूजा भारत के सूर्यवंशी राजाओं के मुख्य पर्वों मे से एक था। मगध राज्य के सम्राट जरासंध के एक पूर्वज को एक बार कुष्ठ रोग हो गया था।

इस रोग से मुक्ति पाने हेतु मगध राज्य के शकलद्वीपीय ब्राह्मणों ने सूर्य देव की पूजा उपासना की जिसके फलस्वरूप राजा के पूर्वज को कुष्ठ रोग से मुक्ति मिल गयी और ऐसा माना गया है कि उसी समय से छठ पूजा आरंभ हुई ।

महाभारत काल में भी छठ पूजा की गयी थी जिसमे पांडवों की पत्नी द्रौपदी ने भी पांडवों के कष्ट दूर करने हेतु छठ पूजा की थी।

 

निष्कर्ष : साथियों ये पोस्ट ” Chhath Puja 2022 Date छठ पूजा की तिथि, शुभ मुहूर्त,नियम और महत्व ” यदि अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को शेयर अवश्य करें .

कुंडली विश्लेषण के लिए हमारे whatsApp number 8533087800 पर संपर्क करे उसके बाद ही कॉल  करें

अपना ज्योतिषीय ज्ञान वर्धन के लिए हमारे facebook ज्योतिष ग्रुप के साथ जुड़े , नीचे दिए link पर click करें

श्री गणेश ज्योतिष समाधान 

ये भी पढ़े : सूर्य देव surya dev का हमारे जीवन पर प्रभाव Impact of surya dev on Success in Life

ये भी पढ़े : आरती संग्रह ,चालीसा संपूर्ण , कवच पाठ संग्रह , स्तुति संग्रह , सहस्त्रनाम 

ये भी पढ़े : कुंडली का ज्योतिष विश्लेषण 

टेक्नोलॉजिकल ज्ञान  : CPU क्या है What is CPU in Hindi,CPU Core,CPU types,complete & in easy langauge in 1 article

ये भी पढ़े :ज्योतिष के अनुसार शिक्षा -9 ग्रहों के अनुसार शिक्षा (education in astrology – education as per planets)

Chhath Puja 2022 Date

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!