Shadow

मोती पहनने से लाभ या हानि-ऐसे व्यक्ति को मोती अवश्य धारण करना चाहिए Advantages and disadvantages of wearing pearls-all 12 lagna 

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

Table of Contents

मोती पहनने से लाभ या हानि-ऐसे व्यक्ति को मोती अवश्य धारण करना चाहिए Advantages and disadvantages of wearing pearls-all 12 lagna

Advantages and disadvantages of wearing pearls: ज्योतिष के नियमों के अनुसार मोती पहनने से लाभ या हानि क्या प्राप्त होगी इसे समझने के लिए आपको ये समझना होगा कि मोती चंद्रमा ग्रह को बल देने वाला रत्न है और चंद्रमा हमे अच्छा स्वास्थ्य , सुख,चंचलता, मन, मां,धन और अच्छी कल्पना शक्ति  और सुंदरता प्रदायक का कारक है और जब कुंडली में चंद्रमा शुभ होता है तो हमारे जीवन मे शांति , सुख , धन आदि की कमी नही रहती है और जीवन मे माँ का सुख अच्छा और माँ से सुख अच्छा प्राप्त होता है।

सभी ग्रहों का फल उनकी महादशा , अंतर और प्रत्यंतर दशाओं के अनुसार मिलता है ठीक इसी प्रकार यदि किसी व्यक्ति के त्रिकोण या केंद्र स्थानो के स्वामी चंद्रमा हों और चंद्रमा पर शुभ ग्रहों का प्रभाव हो और विंशोत्तरी पद्धति से चंद्रमा की महादशा या अंतर्दशा चल रही हो तो ऐसे व्यक्ति को मोती अवश्य धारण करना चाहिए।

यदि चंद्रमा पर पापी ग्रहों का प्रभाव न हो तो चन्द्र की महादशा में हर लग्न का व्यक्ति मोती धारण कर सकता है । मोती पहनने से लाभ या हानि होगी समझने के लिए हमे लग्न या राशि के अनुसार मोती का व्यवहार विभिन्न 12 लग्नों या राशियों के अनुसार समझना होगा जोकि  इस प्रकार होता है

मोती पहनने से लाभ या हानि-ऐसे व्यक्ति को मोती अवश्य धारण करना चाहिए Advantages and disadvantages of wearing pearls-all 12 lagna 

मोती पहनने से लाभ या हानि- विभिन्न 12 लग्नों के लिए 

Advantages and disadvantages of wearing pearls-all 12 lagna

मेष लग्न की कुंडली में चंद्रमा

मेष लग्न की कुंडली में चंद्रमा चतुर्थ भाव का स्वामी है। चतुर्थेश चन्द्र लग्नेश मंगल का मित्र है। अतः इस लग्न के व्यक्ति मोती धारण करके मानसिक शांति, मातृ-सुख, गृह भूमि एवं विद्या लाभ प्राप्त कर सकते हैं। चंद्रमा की महादशा में यह रत्न विशेष लाभकारी होगा। यदि मोती लग्नेश मंगल के रत्न मूंगे के साथ पहना जाए तो अधिक लाभ होगा।

वृष लग्न की कुंडली में चंद्रमा

वृष लग्न की कुंडली में चंद्रमा तृतीय भाव का स्वामी है। इस लग्न के व्यक्ति को मोती कभी नहीं पहनना चाहिए। लेकिन ये चंद्रमा यदि 9th भाव मे हो तो मोती गोचर और दशाओं को देखते हुए पहना जा सकता है

मिथुन लग्न की कुंडली में चंद्रमा

मिथुन लग्न में चन्द्र 2nd भाव अर्थात् धन भाव का स्वामी है। मिथुन लग्न के लिए चंद्रमा मारकेश भी है। फिर भी यदि कुंडली में चंद्रमा द्वितीय भाव का स्वामी होकर नवम, दशम अथवा एकादश भाव में स्थित हो या द्वितीय स्थान में कर्क राशि पर स्वराशिस्थ हो तो चन्द्र की महादशा में मोती पहनने से धन का लाभ होता है।

कर्क लग्न की कुंडली में चंद्रमा

कर्क लग्न में चन्द्र लग्नेश है। अतः ऐसे व्यक्ति को आजीवन मोती पहनना चाहिए क्योंकि ये रत्न कर्क लग्न के लोगों को सभी क्षेत्रों मे सफलता दिलवाता है ।

सिंह लग्न की कुंडली में चंद्रमा

सिंह लग्न में चंद्रमा 12वें भाव का स्वामी होता है। अतः इस लग्न के व्यक्ति के मोती पहनने से व्यय अर्थात खर्चे बढ़ सकते हैं । लेकिन यदि चन्द्र द्वादश भाव में अपनी ही कर्क राशि में स्थित हो तो चंद्रमा की महादशा में मोती धारण करने से जीवन मे वैभव , विलासिता और सुख भरा जीवन प्राप्त किया जा सकता है।

कन्या लग्न की कुंडली में चंद्रमा

कन्या लग्न में चंद्रमा एकादश भाव का स्वामी है। एकादश भाव लाभ स्थान है। अतः चंद्रमा की महादशा में मोती धारण करने से आर्थिक लाभ, यश-कीर्ति व संतान आदि की प्राप्ति होती है।

kundli me chandrama कुंडली मे चंद्रमा

तुला लग्न की कुंडली में चंद्रमा

तुला लग्न में चंद्रमा दशम भाव का स्वामी होता है। ज्योतिष अनुसार चंद्रमा और लग्नेश शुक्र मित्र नहीं हैं, लेकिन तुला लग्न वालों को मोती धारण करने पर राज्य कृपा, यश-कीर्ति तथा मान-सम्मान प्राप्त होता है। चन्द्र की महादशा में मोती धारण करना विशेष लाभकारी होगा।

वृश्चिक लग्न की कुंडली में चंद्रमा

वृश्चिक लग्न में चंद्रमा नवम भाव का स्वामी है। नवम भाव भाग्य का स्थान होता है। अतः वृश्चिक लग्न के व्यक्ति द्वारा मोती धारण करने पर धर्म, कर्म और भाग्य के मामले में उन्नति होती है। पितृ सुख मिलता है तथा यश मान बढ़ता है। चंद्रमा की महादशा में इस रत्न को धारण करने पर विशेष लाभ होता है।

धनु लग्न की कुंडली में चंद्रमा

धनु लग्न में चन्द्र अष्टम भाव का स्वामी है। अष्टम भाव मारक होता है।इसलिए इस लग्न के व्यक्तियों द्वारा मोती धारण करने से चंद्रमा शक्तिशाली हो जाएगा तथा स्वास्थ्य को हानि पहुंचाएगा। इसलिए इस लग्न के व्यक्तियों को मोती नहीं पहनना चाहिए।

मकर लग्न की कुंडली में चंद्रमा

मकर लग्न में चंद्रमा 7th भाव का स्वामी होता है। 7th भाव मारक स्थान है। अतः मकर लग्न वालों को कभी भी मोती नहीं धारण करना चाहिए। वहीं दूसरी ओर मकर लग्न का स्वामी शनि है। शनि और चंद्रमा एक-दूसरे के शत्रु हैं। इसलिए इस लग्न के व्यक्तियों को मोती पहनना लाभकारी नहीं होगा।

कुम्भ लग्न की कुंडली में चंद्रमा

कुम्भ लग्न की भी लगभग यही स्थिति है। इस लग्न में चंद्रमा छठे भाव का स्वामी है। छठा भाव शत्रु स्थान होता है। इसके अतिरिक्त कुम्भ लग्न का स्वामी भी शनि है। अतः इस लग्न के व्यक्तियों द्वारा मोती धारण करने पर अनायास शत्रुता बढ़ेगी तथा स्वास्थ्य में गिरावट आएगी।

मीन लग्न की कुंडली में चंद्रमा

मीन लग्न में चंद्रमा पंचम त्रिकोण का स्वामी है। पंचम भाव विद्या, बुद्धि आदि का स्थान होता है। अतः इस लग्न के व्यक्ति को मोती धारण करने पर अत्यधिक लाभ होगा। उन्हें संतान सुख, विद्या-लाभ, यश-कीर्ति और मान-सम्मान आदि प्राप्त होगा।

मोती को कैसे पहने 

मोती को चांदी की अंगूठी में पहनना चाहिए और आप अपने भार के अनुसार इसे 2, 4, 6 या 11 रत्ती का बनवा सकते हैं । इसे सोमवार या बृहस्पतिवार को खरीदना व बनवाना चाहिए। फिर किसी शुक्ल पक्ष के सोमवार को विधिविधान से पूजन कर और 11000 बार ॐ सों सोमायः नमः मंत्र का जप करके रात्रि काल मे माँ के हाथों ईशान या वायव्य दिशा की ओर मुख करके धारण करना चाहिए।

कुंडली मे चंद्रमा के शुभ और अशुभ योग

moti ke labh-मोती पहनने से मिलेगा अच्छा स्वास्थ्य,धन,संपत्ति और माँ का प्यारpearl benefits

निष्कर्ष :

साथियों हम आशा करते है कि ये पोस्ट “मोती पहनने से लाभ या हानि-ऐसे व्यक्ति को मोती अवश्य धारण करना चाहिए Advantages and disadvantages of wearing pearls-all 12 lagna ”

आपको अच्छी लगी होगी , कुंडली विश्लेषण के लिए हमारे WhatsApp number 8533087800 पर संपर्क कर सकते हैं

अब यदि कोई ग्रह ख़राब फल दे रहा हो , कुपित हो या निर्बल हो तो उस ग्रह के मंत्रों का जाप , रत्न आदि धारण करने चाहिए ,

इसके साथ ही आप ग्रह शांति जाप ,पूजा , रत्न  परामर्श और रत्न खरीदने के लिए अथवा कुंडली के विभिन्न दोषों जैसे मंगली दोष , पित्रदोष आदि की पूजा और निवारण उपाय जानने के लिए भी संपर्क कर सकते हैं

अपना ज्योतिषीय ज्ञान वर्धन के लिए हमारे facebook ज्योतिष ग्रुप के साथ जुड़े , नीचे दिए link पर click करें

श्री गणेश ज्योतिष समाधान 

ये भी पढे : चंद्रमा की अन्य 8 ग्रहों से युति moon with different planets effects (chandrama ki anya grahon se yuti)

ये भी पढे : व्यापार वृद्धि के उपाय टोटके -14 astrological remedies for business growth

ये भी पढे : कुंडली में शुभ योग: इन 7 योग में उत्पन्न व्यक्ति ,कीर्तिवान,यशस्वी तथा राजा के समान ऐश्वर्यवान होता है

ये भी पढ़े : स्त्री की कुंडली में चंद्रमा का प्रभाव stri ki kundli me chandrama-13 moon effects in female horoscope

ये भी पढ़े :ज्योतिष के अनुसार शिक्षा -9 ग्रहों के अनुसार शिक्षा (education in astrology – education as per planets)

ये भी पढे : मंगला गौरी स्तुति- Mangla Gauri Stuti in hindi मांगलिक दोष को दूर करने का उपाय

ये भी पढे : स्त्री की कुंडली में गुरु 12 houses of Jupiter in females horoscope

ये भी पढे : निर्बल चंद्रमा के 21 सरल उपाय देंगे शांति ,सुख और समृद्धि chandrama ke upay for peace, happiness and prosperity

Scrub India 

मोती पहनने से लाभ या हानि-ऐसे व्यक्ति को मोती अवश्य धारण करना चाहिए Advantages and disadvantages of wearing pearls-all 12 lagna 

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *