Shadow

chaitra navratri 2023: नवरात्रि तिथि,पंचक मे कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त,माँ दुर्गा की सवारी,पूजा विधि आदि चैत्र नवरात्रि 2023 की संपूर्ण जानकारी

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

chaitra navratri 2023:नवरात्रि तिथि,पंचक मे कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त,माँ दुर्गा की सवारी,पूजा विधि आदि चैत्र नवरात्रि 2023 की संपूर्ण जानकारी

chaitra navratri 2023: चैत्र नवरात्रि हिंदू नव वर्ष की आरंभ का प्रतीक है, चैत्र नवरात्रि 2023 अर्थात इस वर्ष नवरात्रि  22 मार्च से 30 मार्च तक मनाई जाएगी जिसमे 9 दिनों तक माँ दुर्गा के विभिन्न 9 रूपों की पूजा आराधना होगी , माँ दुर्गा को शक्ति ,शत्रु शमन,तेज और सामर्थ्‍य की प्रतीक माना गया है और माँ दुर्गा के जो सच्चे भक्त होते हैं उनके लिए संसार मे कोई भी लक्ष्य असंभव नहीं रह जाता है, चैत्र नवरात्रि के दिनों मे चैती छठ पूजा और राम नवमी दोनों ही पर्व मनाए जाते हैं ।

धार्मिक मान्यता के अनुसार जो भक्त  9 दिनों में माता की आराधना करते हैं उन्हे सभी प्रकार के सुखों और शक्ति की प्राप्ति होती है , माँ दुर्गा की कृपा से सभी शत्रुओं का नाश होता है और हमे शक्ति, बल,आत्मविश्वास और ऊर्जा प्राप्त होती है,शारीरिक,मानसिक,सामाजिक और आध्यात्मिक अर्थात सभी प्रकार के शक्ति और सुखों में वृद्धि होती है।

नवरात्रि का महापर्व देश भर में काफी धूमधाम से मनाया जाता है। नवरात्रि के दिनों मे व्रत रखने और माँ दुर्गा की पूजा-अर्चना करने से माँ अपने भक्तों पर प्रसन्न हो उनकी सभी मनोकामनाएं पूरी करती हैं। नवरात्रि के 9 दिनों मे माँ दुर्गा अपने भक्तों के कष्ट दूर करने के लिए पृथ्वी पर आती हैं और माँ के भक्त नवरात्रि पूजन के बाद उनकी कृपा का अनुभव करते हैं।

chaitra navratri 2023 चैत्र नवरात्रि 2023

आइए हम सब जानते हैं इस वर्ष चैत्र नवरात्रि 2023  की तिथि

चैत्र नवरात्रि 2023 शुभ तिथि 

Chaitra navratri 2023 shubh tithi

जानें चैत्र नवरात्रि 2023 मे किस दिन माँ के किस स्वरूप की पूजा की जाएगी: –

22 मार्च 2023 – चैत्र नवरात्रि की प्रतिपदा

(माँ शैलपुत्री की पूजा और घटस्थापना)

 23 मार्च 2023 – चैत्र नवरात्रि दूसरा दिन

( माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा)

24 मार्च 2023 –चैत्र नवरात्रि तीसरा दिन

( माँ चंद्रघंटा की पूजा)

25 मार्च 2023 – चैत्र नवरात्रि चौथा दिन

(माँ कुष्माँडा की पूजा)

26 मार्च 2023 – चैत्र नवरात्रि पांचवां दिन

(माँ स्कंदमाता की पूजा)

27 मार्च 2023 –चैत्र नवरात्रि छठा दिन

( माँ कात्यायनी की पूजा)

28 मार्च 2023 –चैत्र नवरात्रि सातवां दिन

( माँ कालरात्रि की पूजा)

29 मार्च 2023 – चैत्र नवरात्रि आठवां दिन 

(माँ महागौरी की पूजा, दुर्गाष्टमी)

30 मार्च 2023 – चैत्र नवरात्रि नवां दिन

रामनवमी- Ram Navami 2023 Date

31 मार्च 2023 , चैत्र नवरात्रि दसवां दिन

(नवरात्रि व्रत का पारण)

चैत्र नवरात्रि दसवां दिन – 10वें दिन नवरात्रि व्रत का पारण किया जाएगा । 

ये भी पढ़े : kamakhya temple कामख्या मंदिर-यहाँ होता है black magic a2z info

navratri 2022 नवरात्री पूजन विधि-कलश स्थापना-पूजन सामग्री

कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त

Auspicious time for Kalash Sthapana

इस वर्ष 22 मार्च से चैत्र नवरात्र 2023 आरंभ हो जाएंगे और 22 मार्च को कलश स्थापना की जाएगी. क्योंकि चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि 21 मार्च की रात्रि 10 बजकर 52 मिनट से लग जाएगी ,22 मार्च को प्रातः 08 : 30 am से लेकर 9:23 am तक कलश स्थापना कर सकते हैं ।  यह मुहूर्त कलश स्थापना के लिए शुभ रहेगा ।

पंचक 5 दिन चलते हैं जो 19 मार्च से आरंभ होकर 23 मार्च को समाप्त होंगे और इसी पंचक मे नवरात्रि का आरंभ है । जब चंद्रमा रेवती, पूर्वा भाद्रपद, उत्तरा भाद्रपद, शतभिषा और धनिष्ठा नक्षत्रों मे गोचर करते हैं अर्थात चंद्रमा जब कुंभ या मीन राशि में होते हैं तो उस समय को पंचक कहते हैं ।

इस पंचक मे ही  मीन राशि में 5 ग्रह एक साथ संयोग बना रहें हैं, मीन राशि मे स्वराशी बृहस्पति पहले से ही विराजित हैं जिनके निकट चंद्रमा आने से गजकेशरी योग बन जाएगा , इसके साथ ही शश योग, बुधादित्य योग, हंस योग जैसे अनेक शुभ योग बन रहें हैं , इसलिए शुभ संयोगों के बल से पंचक प्रभावहीन हो जाएगा और आप पंचक मे बिना किसी संशय के कलश स्थापना और माँ दुर्गा की पूजा-आराधना करें ।

बगलामुखी चालीसा- Baglamukhi Chalisa in Hindi & English Complete & Easy

चैत्र नवरात्रि 2023 मे क्या है माँ दुर्गा की सवारी

Maa Durga ki Sawari in Chaitra Navratri 2023

इस वर्ष चैत्र नवरात्रि 2023 मे माँ दुर्गा नौका पर सवार होकर आएंगी। किसी भी वर्ष माँ दुर्गा की सवारी इस बात से तय होता है कि नवरात्रि का आरंभ किस दिन से हो रहा है जैसे नवरात्रि की आरंभ यदि रविवार या सोमवार के दिन से हो तो माँ दुर्गा का वाहन हाथी होता है । मंगलवार या शनिवार हो तो माँ की सवारी घोड़ा होता है और यदि बुधवार से नवरात्रि आरंभ हो तो माँ दुर्गा का वाहन नौका होता है और वहीं गुरुवार या शुक्रवार से नवरात्रि प्रारंभ हो तो माँ दुर्गा डोली मे सवार होकर आती हैं ।

जब माँ दुर्गा की सवारी नाव होती है तो ये अच्छी बारिश और अच्छी फसल का संकेत होता है । नौका वाहन की सवारी बहुत ही शुभ मानी जाती है और ऐसी नवराती मे माता अपने भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण करती हैं

ये भी पढे : Durga Kavach in hindi: दुर्गा कवच हिंदी में अर्थ सहित

ये भी पढे : kanaka durga temple Vijayawada-कनक दुर्गा मंदिर वो पवित्र स्थान-जहाँ माँ दुर्गा ने राक्षस महिषासुर का वध किया था

ये भी पढे : Durga Sahasranamam Stotram -दुर्गा सहस्रनाम स्तोत्रम्-मां दुर्गा का 1000 नाम

ये भी पढे : श्री दुर्गा चालीसा पाठ – sri durga chalisa path in hindi

ये भी पढे : तुलसी माता की आरती: Tulsi Mata ki Aarti in Hindi & English 

ये भी पढे : Vaishno devi temple वैष्णो देवी मंदिर,अर्धकुंवारी,सांझीछत,भैरो मंदिर कहां है,खाने रुकने की व्यवस्था A 2 Z complete tour guide

ये भी पढे : वैष्णो माता की आरती Vaishno mata ki aarti in Hindi & English

**************

ये भी पढे : कुंडली में शुभ योग: इन 7 योग में उत्पन्न व्यक्ति ,कीर्तिवान,यशस्वी तथा राजा के समान ऐश्वर्यवान होता है

ये भी पढ़े : स्त्री की कुंडली में चंद्रमा का प्रभाव stri ki kundli me chandrama-13 moon effects in female horoscope

ये भी पढ़े :ज्योतिष के अनुसार शिक्षा -9 ग्रहों के अनुसार शिक्षा (education in astrology – education as per planets)

ये भी पढे : मंगला गौरी स्तुति- Mangla Gauri Stuti in hindi मांगलिक दोष को दूर करने का उपाय

ये भी पढे : स्त्री की कुंडली में गुरु 12 houses of Jupiter in females horoscope

ये भी पढे : निर्बल चंद्रमा के 21 सरल उपाय देंगे शांति ,सुख और समृद्धि chandrama ke upay for peace, happiness and prosperity

Scrub India 

 

अपने जानने वालों में ये पोस्ट शेयर करें ...

Leave a Reply

error: Content is protected !!